Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2024 · 1 min read

लोग आसमां की तरफ देखते हैं

लोग आसमां की तरफ देखते हैं
जब जन्नत की बात करते हैं
हमने कहीं और नहीं बस
तुम्हारी आँखों में जन्नत को देखा है

1 Like · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
सत्य क्या है ?
सत्य क्या है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
जिंदगी
जिंदगी
Sangeeta Beniwal
पास ही हूं मैं तुम्हारे कीजिए अनुभव।
पास ही हूं मैं तुम्हारे कीजिए अनुभव।
surenderpal vaidya
रावण का परामर्श
रावण का परामर्श
Dr. Harvinder Singh Bakshi
आम के छांव
आम के छांव
Santosh kumar Miri
"अनमोल सौग़ात"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गुलाबों सी महक है तेरे इन लिबासों में,
गुलाबों सी महक है तेरे इन लिबासों में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
Dheerja Sharma
भारत के लाल को भारत रत्न
भारत के लाल को भारत रत्न
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मंज़िल का पता है न ज़माने की खबर है।
मंज़िल का पता है न ज़माने की खबर है।
Phool gufran
पिता
पिता
विजय कुमार अग्रवाल
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अजनबी
अजनबी
Shyam Sundar Subramanian
*पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन मन्दिर, रामपुर*
*पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन मन्दिर, रामपुर*
Ravi Prakash
मालपुआ
मालपुआ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ग़ज़ल _ मुझे मालूम उल्फत भी बढ़ी तकरार से लेकिन ।
ग़ज़ल _ मुझे मालूम उल्फत भी बढ़ी तकरार से लेकिन ।
Neelofar Khan
यह मत
यह मत
Santosh Shrivastava
3149.*पूर्णिका*
3149.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🚩 वैराग्य
🚩 वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मन्नत के धागे
मन्नत के धागे
Dr. Mulla Adam Ali
हिंदी माता की आराधना
हिंदी माता की आराधना
ओनिका सेतिया 'अनु '
#अब_यादों_में
#अब_यादों_में
*प्रणय प्रभात*
# कुछ देर तो ठहर जाओ
# कुछ देर तो ठहर जाओ
Koमल कुmari
खता खतों की नहीं थीं , लम्हों की थी ,
खता खतों की नहीं थीं , लम्हों की थी ,
Manju sagar
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"इच्छा"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...