Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2022 · 2 min read

लोकतंत्र बस चीख रहा है

लोकतंत्र बस चीख़ रहा है
और पतन अब दीख रहा है

सत्ता लोलुपता है व्यापित
राजनीति केवल है शापित
जनता केवल लूटी जाती
बात पड़े पर कूटी जाती
जनता की आवाज़ नहीं है
कोई नया आगाज़ नहीं है
चौथा खंभा चाटुकार है
बढ़ गया देखो अनाचार है
अधिकारों की बाते खोईं
बिना बात के आँखें रोईं

कृषकों की बस दशा वही है
रूप बदलकर दशा वही है

भाई-भाई लड़ बैठे हैं
इक-दूजे पे चढ़ बैठे हैं
हवा में घोला ज़हर किसी ने
ढाया सब पर क़हर किसी ने
शांति डरी-सहमी रहती है
कांति उड़ी-वहमी रहती है
सालों से जो रहता आया
गैर उन्हीं को फिर बतलाया
आपस में फिर फूट डालकर
दो हिस्सों में बंटवाया

शिक्षा की परिभाषा बदली
जन-जन की अभिलाषा बदली

नेता-चोर-उचक्के-सारे
मजलूमों को चुन-चुन मारें
गाँधी वाला देश नहीं हैं
बाबा-से परिवेश नहीं है
अटल इरादे माटी हो गए
झूठों की परिपाटी हो गए
नेता जी के सपने खोए
भगत-आज़ाद फूटकर रोए
नेहरू ने जो सपना बोया
लगता केवल खोया-खोया

राम-नाम से लूट मची है
अपनों में ही फूट मची है

रहमानों ने कसमें खाईं
बिना बात के रार बढ़ाई
दो हिस्सों में बँट गए सारे
कल तक थे जो भाई-भाई
राजनीति के चक्कर में आ
समता, एकता भी गँवाई
नेता अपनी रोटी सेंकें
गाँव गली और गलियारों में
उनको दिखता प्रेम है केवल
बंदूकों और तलवारों में

हमको आपस में लड़वाकर
खूब मलाई मिलकर खाते

इक थाली के चट्टे-बट्टे
कुछ सिंगल कुछ हट्टे-कट्टे
संसद एक अखाड़ा बनता
वाणी-शर बेशक फिर तनता
जनता को धीरे बहलाते
उनके नायक बन-बन जाते
धूल झोंककर आँखों में भी
ख़ुद को हितकारी बतलाते
धीरे-धीरे पेट बढ़ाते
और खज़ाना चट कर जाते

इक रोटी का दसवां हिस्सा
जनता हित भी काम कराते

कल तक रहते थे जमीं पर
आज आसमाँ चढ़-चढ़ जाते
निश्छल की विनती बस इतनी
इनकी बातों में मत आना
दया,धर्म,सच्चाई का ही
मिलके सब बस साथ निभाना
तोड़े जो भाईचारे को
इस अखंड भारत प्यारे को
उसका हक-सम्मान छीनकर
सत्ता से निष्कासित कर दें

तहज़ीब-मुहब्बत बनी रहे
और तिरंगा-शान बढ़े

परचम फहरे विश्व-पटल पर
आन-बान-गुणगान बढ़े
इक उंगली में शक्ति कहाँ वो
जो मुट्ठी बनकर आ जाए
लोकतंत्र अब हाथ हमारे
संविधान भी हमारे सहारे
आओ मिलकर देश बचा लें
आओ मिल परिवेश बचा लें
बचा-खुचा बस प्यार बचा लें
प्रीत-रीत त्योहार बचा लें

देशप्रेम की डोर बचा लें
प्यारे-न्यारे छोर बचा लें

अपने कर्तव्यों को समझें
सबके मन्तव्यों को समझें
ये देश सभी का कल भी था
और आने वाले दिन में रहेगा
कौन किसे फिर चोर कहेगा
आने वाला दौर कहेगा
देशप्रेम सबसे ऊपर है
इससे आला कोई नहीं
देश रहे महबूब सदा गर
और निराला कोई नहीं

मातृभूमि-रज भाल लगाकर
निश्छल बस इक बात कहे

प्यार पनपता रहे यहाँ पर
सुख-दुःख बाँटें इक-दूजे के
आओ गले अब मिलकर साथी
अपना प्यारा देश बचाएँ
फिर से महक उठे ये धरती
इक ऐसा परिवेश बनाएँ
प्यारा अपना देश बनाएँ
न्यारा अपना देश बनाएँ
आओ अपना देश बनाएँ
मिलके अपना देश सजाएँ
आओ साथी ! आओ साथी!
आओ साथी ! आओ साथी!
मिलके प्यारा देश बचा लें।

अनिल कुमार निश्छल

Language: Hindi
Tag: गीत
373 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शीर्षक – निर्णय
शीर्षक – निर्णय
Sonam Puneet Dubey
"सुपारी"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल _रखोगे कब तलक जिंदा....
ग़ज़ल _रखोगे कब तलक जिंदा....
शायर देव मेहरानियां
किरदार हो या
किरदार हो या
Mahender Singh
आता जब समय चुनाव का
आता जब समय चुनाव का
Gouri tiwari
नवीन वर्ष (पञ्चचामर छन्द)
नवीन वर्ष (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
राह देखेंगे तेरी इख़्तिताम की हद तक,
राह देखेंगे तेरी इख़्तिताम की हद तक,
Neelam Sharma
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वक्त
वक्त
लक्ष्मी सिंह
सूरज आएगा Suraj Aayega
सूरज आएगा Suraj Aayega
Mohan Pandey
पहला खत
पहला खत
Mamta Rani
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
Ujjwal kumar
मित्रता
मित्रता
Shashi kala vyas
आगाह
आगाह
Shyam Sundar Subramanian
जिंदगी भी एक लिखा पत्र हैं
जिंदगी भी एक लिखा पत्र हैं
Neeraj Agarwal
हीरक जयंती 
हीरक जयंती 
Punam Pande
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
Yogendra Chaturwedi
सुस्ता लीजिये थोड़ा
सुस्ता लीजिये थोड़ा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
#मेरी_ग़ज़ल
#मेरी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
3167.*पूर्णिका*
3167.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आँखों से नींदे
आँखों से नींदे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
शैलजा छंद
शैलजा छंद
Subhash Singhai
सब्जी के दाम
सब्जी के दाम
Sushil Pandey
भले ही शरीर में खून न हो पर जुनून जरूर होना चाहिए।
भले ही शरीर में खून न हो पर जुनून जरूर होना चाहिए।
Rj Anand Prajapati
डीजल पेट्रोल का महत्व
डीजल पेट्रोल का महत्व
Satish Srijan
जनहित (लघुकथा)
जनहित (लघुकथा)
Ravi Prakash
वक़्त है तू
वक़्त है तू
Dr fauzia Naseem shad
व्हाट्सएप युग का प्रेम
व्हाट्सएप युग का प्रेम
Shaily
जन्मदिन शुभकामना
जन्मदिन शुभकामना
नवीन जोशी 'नवल'
गाली भरी जिंदगी
गाली भरी जिंदगी
Dr MusafiR BaithA
Loading...