Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

लिखते दिल के दर्द को

लिखते दिल के दर्द को
उन कोरे कागज के पन्नो पर
और बाँधे फिर उन पन्नों को
अपने आंसू के धागे से
जब दर्द लिखा उन पन्नों पर
रोया एक एक शब्द वहां
लिखा अपने जज्बातो को
लिखा अपने एहसासों को
कुछ खुशी लिखी कुछ दर्द लिखा
दिल का है एक एक मर्ज लिखा|

64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3430⚘ *पूर्णिका* ⚘
3430⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
अभिनव अदम्य
अपना पीछा करते करते
अपना पीछा करते करते
Sangeeta Beniwal
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बेटी परायो धन बताये, पिहर सु ससुराल मे पति थम्माये।
बेटी परायो धन बताये, पिहर सु ससुराल मे पति थम्माये।
Anil chobisa
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
कविता झा ‘गीत’
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
पूर्वार्थ
जय माता दी ।
जय माता दी ।
Anil Mishra Prahari
स्मृति प्रेम की
स्मृति प्रेम की
Dr. Kishan tandon kranti
धुएं के जद में समाया सारा शहर पूछता है,
धुएं के जद में समाया सारा शहर पूछता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नहीं है पूर्ण आजादी
नहीं है पूर्ण आजादी
लक्ष्मी सिंह
वो बचपन था
वो बचपन था
Satish Srijan
शिशुपाल वध
शिशुपाल वध
SHAILESH MOHAN
चुनाव
चुनाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यथार्थ
यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
अभी दिल भरा नही
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
Neelam Sharma
बरसात के दिन
बरसात के दिन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सियासत
सियासत "झूठ" की
*Author प्रणय प्रभात*
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
जीवन में सफल होने
जीवन में सफल होने
Dr.Rashmi Mishra
अद्भुद भारत देश
अद्भुद भारत देश
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
Ritu Asooja
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
किसी के दिल में चाह तो ,
किसी के दिल में चाह तो ,
Manju sagar
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
Rj Anand Prajapati
*बताए मेरी गलती जो, उसे ईनाम देता हूँ (हिंदी गजल)*
*बताए मेरी गलती जो, उसे ईनाम देता हूँ (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
संसार का स्वरूप(3)
संसार का स्वरूप(3)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
आओ प्रिय बैठो पास...
आओ प्रिय बैठो पास...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...