Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Apr 2018 · 2 min read

लाड़ली लाड़ो

लाड़ली लाड़ो
*************
लाड़न ते पारी लाड़ो ल्हौरी अति लाड़ली है,
लाड़ कूँ लड़ाय मेरे मन कूँ लुभाय रे ।
मीठी तुतलाय बोल गोदी चढ़ जाय कभी,
पामन ते लिपट लिपट मुसकाय रे ।
काँधे चढ़ कूदै कभी पीठ ते चिपक जाय,
साँझ ढरे रोज मोय घोड़ा ऊ बनाय रे ,
‘ज्योति’ कहै लाड़ो मोय पुरवा सी ब्यार लगै,
बैनन लुभाय चित सैनन चुराय रे ।।१
*
कागज कौ टूक लाकै बोलै बाबा नाव बना,
फट जाय कागज तौ फैल-फैल जाय रे ।
कभी कहै खेलौ मेरे संग सब लुक-छिप,
खेलूँ न मचल जाय बस में न आय रे ।
पामन में पायलिया पहर ठुमक चलै ,
पीछै मुड़ देखै खिल हँस किलकाय रे ।
‘ज्योति’ कहै लाड़ो मोय जाड़े की सी धूप लगै,
निरखूँ करेजा मेरौ स्वाँत अति पाय रे ।।२
*
माथे पै लगाय बैंदी काजर लगाय नैन ,
गुड़िया कूँ लोरी गाय थपक सुवाय रे ।
साड़ी बाँध घूँघट की ओट ने निगोड़ी हँसै,
रिस खाय रूँसै घर अधर उठाय रे ।
खेलै एक टाँग कभी कोर -राजा माई-साई,
मछरी बनै तौ पानी हाथन बताय रे ।
‘ज्योति’ कहै लाड़ो मोय खेल की पिटारी लागै,
कैसे-कैसे खेलन कूँ खेलै है खिलाय रे ।।३
*
जिद करै क्रोध आय पीट नहीं पाँऊ वाय,
डाँटू , सुबकन लागै ठड़ी खड़ी आगै री ।
आँखन तरेर कभी भूले तेउ देख ल‌ऊँ,
कौने माँहि छिपवे कूँ सरपट भागै री ।
अधखुले नैन सोय टूक लगै चंदा की सी ,
भोर में जगाऊँ सोय जाय नाय जागै री ,
‘ज्योति’ कहै लाड़ो मोय प्रानन ते प्यारी लगै ,
जानै कौन जनम कौ पुन्न फलौ लागै री ।।४
*
बेटी है परायौ धन ,जाय छोड़ एक दिन,
मान कूँ झुकाय एक दिन मान बन जाय ।
छोड़ कै बसेरौ नये नीड़ में बसेरौ करै ,
पल में पलट रूप मेहमान बन आय ।
दान में स्वयं जाय जानै कहँ छिप जाय,
खिलै फूल बन कै मधुर गंध बिखराय।
‘ज्योति’ कहै लाड़ो मोय लागै है अमर बेल ,
जानै कहाँ जाय कै पसर कै बिखर छाय ।।५
*
मेरे घर तुलसी के बिरवा सी पुज रही ,
जानै कौन कहाँ जाय सोभा बन जायगी ।
कैसौ घर कैसौ वर पायगी न जानै कोई ,
कैसै जानै सासरे में जाय कै निभायगी ।
आज तौ लुभाय रही मीठी-मीठी मुसकाय ,
डोली चढ़ जायगी तौ कितनौ रुवायगी ।
‘ज्योति’ कहै लाड़ो आज मोह रही तुतलाय ,
काई दिना आँगन कूँ सूनौ कर जायगी ।।६
*****
-महेश जैन ‘ज्योति’
मथुरा ।
***

218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahesh Jain 'Jyoti'
View all
You may also like:
बस नेक इंसान का नाम
बस नेक इंसान का नाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हर लम्हा दास्ताँ नहीं होता ।
हर लम्हा दास्ताँ नहीं होता ।
sushil sarna
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
Taj Mohammad
रिस्ता मवाद है
रिस्ता मवाद है
Dr fauzia Naseem shad
*माँ सरस्वती जी*
*माँ सरस्वती जी*
Rituraj shivem verma
जाड़ा
जाड़ा
नूरफातिमा खातून नूरी
*** शुक्रगुजार हूँ ***
*** शुक्रगुजार हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
इन चरागों को अपनी आंखों में कुछ इस तरह महफूज़ रखना,
इन चरागों को अपनी आंखों में कुछ इस तरह महफूज़ रखना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
Shravan singh
■ भगवान के लिए, ख़ुदा के वास्ते।।
■ भगवान के लिए, ख़ुदा के वास्ते।।
*प्रणय प्रभात*
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
पंकज कुमार कर्ण
अपना सफ़र है
अपना सफ़र है
Surinder blackpen
अवसाद
अवसाद
Dr. Rajeev Jain
शिक्षक
शिक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Pyasa ke dohe (vishwas)
Pyasa ke dohe (vishwas)
Vijay kumar Pandey
"काफ़ी अकेला हूं" से "अकेले ही काफ़ी हूं" तक का सफ़र
ओसमणी साहू 'ओश'
संकल्प का अभाव
संकल्प का अभाव
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ठोकरें आज भी मुझे खुद ढूंढ लेती हैं
ठोकरें आज भी मुझे खुद ढूंढ लेती हैं
Manisha Manjari
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Anil chobisa
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
Rachna Mishra
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
manjula chauhan
Education
Education
Mangilal 713
कैसे कहे
कैसे कहे
Dr. Mahesh Kumawat
*डॉंटा जाता शिष्य जो, बन जाता विद्वान (कुंडलिया)*
*डॉंटा जाता शिष्य जो, बन जाता विद्वान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*
*"गुरू पूर्णिमा"*
Shashi kala vyas
हाथ में कलम और मन में ख्याल
हाथ में कलम और मन में ख्याल
Sonu sugandh
2967.*पूर्णिका*
2967.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कंटक जीवन पथ के राही
कंटक जीवन पथ के राही
AJAY AMITABH SUMAN
रूपमाला (मदन ) छंद विधान सउदाहरण
रूपमाला (मदन ) छंद विधान सउदाहरण
Subhash Singhai
Loading...