Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2024 · 2 min read

#लघुकथा

#प्रेमकथा
■ कॉलेज का आख़िरी दिन
【प्रणय प्रभात】
आज प्रो. रमन की सेवानिवृत्ति का दिन था। कॉलेज परिसर में चल रहा था विदाई समारोह। जहाँ उन्होंने दो-चार-छह नहीं पूरे 16 साल गुज़ारे। वो भी एक आदर्श व समर्पित विभागाध्यक्ष के रूप में। भव्य मंच से उनके कृतित्व और व्यक्तित्व पर प्रशंसात्मक भाषणों का दौर पूरा हो चुका था। अब बारी ख़ुद प्रो. रमन के भाषण की थी। मंच पर एक कुर्सी अब भी खाली थी। जो उनकी जगह लेने के लिए पदस्थ प्रो. माधवी के लिए आरक्षित थी। जिन्हें एयरपोर्ट से सीधे समारोह में पहुँचना था।
फ्लाइट लेट होने की वजह से प्रो. माधवी डेढ़ घण्टे की देरी से मंच पर पहुंचीं। डायस पर बोलते प्रो. रमन की निगाह मंच की ओर बढ़ती प्रो. माधवी पर गढ़ चुकी थी। अधेड़ उम्र के बाद भी वही चेहरा, वही लावण्य, वही सौम्यता। अविवाहित प्रो. रमन की आँखों में अनायास बरसों पुरानी यादें तैर गईं। वही यादें, जिनसे उनके जीवन का सीधा वास्ता था। याद उस दिन की भी, जब उन्होंने पहली बार माधवी को देखा था। वो स्नातक में दाखिला लेने के लिए पहली बार कॉलेज आई हुई थी। जबकि रमन को पीएचडी के लिए उसी शाम स्वीडन रवाना होना था।
अपलक उसी की ओर देख रहे प्रो. रमन लगभग अवाक से थे। इस वियोगदायी संयोग और समय के रुख पर। उन्हें याद था कि वह दिन भी कॉलेज में उनका आखिरी दिन था। ठीक आज ही की तरह। अगले दिन उन्हें अपने पैतृक गाँव जो लौट जाना था। हमेशा-हमेशा के लिए।
उन्हें क्या पता था कि जिसकी चाह में अकेले उम्र गुज़ार दी। जिसकी तलाश में विदेश से वापसी के बाद निगाहें हर राह, हर क़दम पर बेताब रहीं। उससे दूसरी और आख़िरी मुलाक़ात उम्र के इस मोड़ पर होगी।
👌👌👌👌👌👌👌👌

इकतरफा प्यार
अधूरा इश्क

1 Like · 42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कौन जात हो भाई / BACHCHA LAL ’UNMESH’
कौन जात हो भाई / BACHCHA LAL ’UNMESH’
Dr MusafiR BaithA
*सच्चे  गोंड और शुभचिंतक लोग...*
*सच्चे गोंड और शुभचिंतक लोग...*
नेताम आर सी
नया भारत
नया भारत
गुमनाम 'बाबा'
श्री राम जय राम।
श्री राम जय राम।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सातो जनम के काम सात दिन के नाम हैं।
सातो जनम के काम सात दिन के नाम हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
भोली बिटिया
भोली बिटिया
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
Tum har  wakt hua krte the kbhi,
Tum har wakt hua krte the kbhi,
Sakshi Tripathi
.....★.....
.....★.....
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
चंचल मन***चंचल मन***
चंचल मन***चंचल मन***
Dinesh Kumar Gangwar
मैं बनारस का बेटा हूँ मैं गुजरात का बेटा हूँ मैं गंगा का बेट
मैं बनारस का बेटा हूँ मैं गुजरात का बेटा हूँ मैं गंगा का बेट
शेखर सिंह
कान में रखना
कान में रखना
Kanchan verma
किस बात का गुमान है
किस बात का गुमान है
भरत कुमार सोलंकी
प्रभु संग प्रीति
प्रभु संग प्रीति
Pratibha Pandey
मैं अपनी सेहत और तरक्की का राज तुमसे कहता हूं
मैं अपनी सेहत और तरक्की का राज तुमसे कहता हूं
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुहब्बत का घुट
मुहब्बत का घुट
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मृत्यु भय
मृत्यु भय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
Neelam Sharma
चाहत
चाहत
Bodhisatva kastooriya
“ भयावह व्हाट्सप्प ”
“ भयावह व्हाट्सप्प ”
DrLakshman Jha Parimal
मेरे जब से सवाल कम हैं
मेरे जब से सवाल कम हैं
Dr. Mohit Gupta
*अयोध्या*
*अयोध्या*
Dr. Priya Gupta
यही तो मजा है
यही तो मजा है
Otteri Selvakumar
वस्तु वस्तु का  विनिमय  होता  बातें उसी जमाने की।
वस्तु वस्तु का विनिमय होता बातें उसी जमाने की।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
तेरा - मेरा
तेरा - मेरा
Ramswaroop Dinkar
दोस्ती क्या है
दोस्ती क्या है
VINOD CHAUHAN
*आओ गाओ गीत बंधु, मधु फागुन आया है (गीत)*
*आओ गाओ गीत बंधु, मधु फागुन आया है (गीत)*
Ravi Prakash
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Kavita Chouhan
मेरी जिंदगी सजा दे
मेरी जिंदगी सजा दे
Basant Bhagawan Roy
ଚୋରାଇ ଖାଇଲେ ମିଠା
ଚୋରାଇ ଖାଇଲେ ମିଠା
Bidyadhar Mantry
अजीब शख्स था...
अजीब शख्स था...
हिमांशु Kulshrestha
Loading...