Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Nov 2023 · 1 min read

लघुकथा – एक रुपया

लघुकथा – एक रुपया
****************
अखबार में मोटे अक्षरों में छपी खबर को पढ़कर कंचन बिटिया ने दादा से पूछा – ” दादा जी रमेश अंकल के घर ये नई गाड़ी किसकी है ?”
‘ बेटा , ये रमेश अंकल की है।’
“कब खरीद कर लाये हैं ?”
‘बेटा ये तो उन्हें शादी में मिली है।’
“अखबार में छपी खबर की ओर इशारा करते हुए कंचन ने कहा – ” दादा जी इसमें तो लिखा है एक रुपया लेकर शादी करके मिसाल कायम की रमेश ने
प्रत्युत्तर में दादा जी ने कहा – ‘ बेटा , गाड़ी घोड़ा की बात छोड़ो, रुपया तो एक ही लिया है ना!’
*********
अशोक कुमार ढोरिया
मुबारिकपुर(झज्जर)
हरियाणा

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन की रंगीनियत
जीवन की रंगीनियत
Dr Mukesh 'Aseemit'
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
Sukoon
मझधार
मझधार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
माँ की दुआ
माँ की दुआ
Anil chobisa
सृजन और पीड़ा
सृजन और पीड़ा
Shweta Soni
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
gurudeenverma198
जो रिश्ते दिल में पला करते हैं
जो रिश्ते दिल में पला करते हैं
शेखर सिंह
खर्च हो रही है ज़िन्दगी।
खर्च हो रही है ज़िन्दगी।
Taj Mohammad
*आया भैया दूज का, पावन यह त्यौहार (कुंडलिया)*
*आया भैया दूज का, पावन यह त्यौहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिसके हर खेल निराले हैं
जिसके हर खेल निराले हैं
Monika Arora
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
फ़ासला गर
फ़ासला गर
Dr fauzia Naseem shad
तुझसे मिलने के बाद ❤️
तुझसे मिलने के बाद ❤️
Skanda Joshi
प्राचीन दोस्त- निंब
प्राचीन दोस्त- निंब
दिनेश एल० "जैहिंद"
चक्रव्यूह की राजनीति
चक्रव्यूह की राजनीति
Dr Parveen Thakur
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
पूर्वार्थ
आंखन तिमिर बढ़ा,
आंखन तिमिर बढ़ा,
Mahender Singh
संसार का स्वरूप
संसार का स्वरूप
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
Pramila sultan
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
मनोकामना
मनोकामना
Mukesh Kumar Sonkar
*मौत आग का दरिया*
*मौत आग का दरिया*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"चुभती सत्ता "
DrLakshman Jha Parimal
वन को मत काटो
वन को मत काटो
Buddha Prakash
मेरा दुश्मन मेरा मन
मेरा दुश्मन मेरा मन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
फितरत अमिट जन एक गहना
फितरत अमिट जन एक गहना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आप से दर्दे जुबानी क्या कहें।
आप से दर्दे जुबानी क्या कहें।
सत्य कुमार प्रेमी
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*प्रणय प्रभात*
*हो न लोकतंत्र की हार*
*हो न लोकतंत्र की हार*
Poonam Matia
उजले दिन के बाद काली रात आती है
उजले दिन के बाद काली रात आती है
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...