Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2023 · 2 min read

#लघुकथा / आख़िरकार…

#लघुकथा
■ सूखे खेत छा गए बदरा…
【प्रणय प्रभात】
मिस्टर एबी का बेटा 32 साल का हो चुका था। उसके लिए तलाश थी एक सर्वगुण-सम्पन्न सुंदरी की। तलाश बीते छह साल से पूरी होने का नाम नहीं ले रही थी। वजह थी कुंडली के दर्ज़न भर कमरों में धमाचौकड़ी मचाते पौन दर्ज़न ग्रह। जो गृहस्थी आबाद न होने देने की क़सम सी खाए बैठे थे। रही-सही क़सर समय के साथ बढ़ती हुई उम्र पूरी किए दे रही थी। सूरत-शक़्ल और रंग-रूप पर उल्टा असर डालते हुए। तमाम टोने-टोटके लगातार निष्फल बने हुए थे।
अमूमन यही हाल मिस्टर सीडी का था। जिन्हें अपनी 30 साल की राजकुमारी के लिए बीते 5 साल से एक अदद राजकुमार की खोज थी। दर्ज़न जोड़ी जूतियां घिसने के बाद भी नतीज़ा सिफर था। भारी-भरकम ग्रह यहां भी एक प्रपंच सा रचे हुए थे। नतीज़तन पापा की परी के पर अब परवाज़ की ताक़त खोते जा रहे थे। यह और बात है कि दिमाग़ न मां-बाप के ठिकाने आ रहे थे, न बेटी के। तरह-तरह के व्रत-उपवास के बाद भी देवगणों के जागने के कोई आसार नहीं बन रहे थे।
मज़े की बात यह थी कि एबी और सीडी दंपत्ति एक ही शहर के निवासी थे। संयोगवश एक ही समाज के। आपस में अच्छे से परिचित और लगभग समकक्ष भी। असली मुसीबत स्तर की समानता के बावजूद सोच की समानता को लेकर थी। सोच वही, अकड़ और आत्म-मुग्धता से भरपूर। एक-दूसरे को कुछ न समझने वाली। समाज के लोग संकेतों में दोनों परिवारों के मधुर-मिलन की कोशिश कर निराश हो चुके थे, क्योंकि दोनों खानदान एक-दूसरे में मीन-मेख निकालने में पारंगत थे।
वक़्त अपनी रफ़्तार से गुज़र रहा था। मिस्टर एबी के सपूत ने 40वें साल में पदार्पण कर लिया था। श्रीमान एबी कोरोना की भेंट चढ़ चुके थे। इधर श्रीमती सीडी 38वें साल में चल रही अपनी लाडली के हाथ पीले न होने के ग़म में सिधार चुकी थीं। आख़िरकार श्रीमती एबी और श्रीमान सीडी की अकड़ के पिस्सू एक रोज़ झड़ ही गए। पता चला कि उन्होंने अधेड़ दिखाई देतीं औलादों की दीमक लगी कुंडली बला-ऐ-ताक रखते हुए देवता जगाने का मन बना लिया। अब दोनों देव-उठान पर परिणय-बंधन में बंधने जा रहे हैं। वो भी उस उम्र में, जब उनके बीच दांपत्य के नाम पर कुछ नहीं बचा है। एकाकी रहने से मुक्ति पा लेने के संतोष के सिवाय। पारिवारिक अड़ियलपन का टेसू बैरंग हो चुका है, मगर काफ़ी देर से। बहुत कुछ छीन और निगल लेने के बाद।।
■प्रणय प्रभात■
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 411 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
माँ आओ मेरे द्वार
माँ आओ मेरे द्वार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभाल कर।
तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभाल कर।
लक्ष्मी सिंह
"आए हैं ऋतुराज"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
फूक मार कर आग जलाते है,
फूक मार कर आग जलाते है,
Buddha Prakash
काशी
काशी
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
शुभ होली
शुभ होली
Dr Archana Gupta
नव संवत्सर आया
नव संवत्सर आया
Seema gupta,Alwar
■ जय जिनेन्द्र
■ जय जिनेन्द्र
*Author प्रणय प्रभात*
गौमाता को पूजिए, गौ का रखिए ध्यान (कुंडलिया)
गौमाता को पूजिए, गौ का रखिए ध्यान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
इश्क़ में भी हैं बहुत, खा़र से डर लगता है।
इश्क़ में भी हैं बहुत, खा़र से डर लगता है।
सत्य कुमार प्रेमी
"सँवरने के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
Mahendra Narayan
I am a little boy
I am a little boy
Rajan Sharma
रिश्ते
रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
इश्क में ज़िंदगी
इश्क में ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
Jyoti Khari
सबसे क़ीमती क्या है....
सबसे क़ीमती क्या है....
Vivek Mishra
मातृ दिवस या मात्र दिवस ?
मातृ दिवस या मात्र दिवस ?
विशाल शुक्ल
2578.पूर्णिका
2578.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Jay shri ram
Jay shri ram
Saifganj_shorts_me
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ओसमणी साहू 'ओश'
जो समाज की बनाई व्यस्था पे जितना खरा उतरता है वो उतना ही सम्
जो समाज की बनाई व्यस्था पे जितना खरा उतरता है वो उतना ही सम्
Utkarsh Dubey “Kokil”
डियर कामरेड्स
डियर कामरेड्स
Shekhar Chandra Mitra
Tumhari sasti sadak ki mohtaz nhi mai,
Tumhari sasti sadak ki mohtaz nhi mai,
Sakshi Tripathi
💐अज्ञात के प्रति-148💐
💐अज्ञात के प्रति-148💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
छोड़ दिया
छोड़ दिया
Srishty Bansal
जुते की पुकार
जुते की पुकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
प्रेम की बात जमाने से निराली देखी
प्रेम की बात जमाने से निराली देखी
Vishal babu (vishu)
बारिश की मस्ती
बारिश की मस्ती
Shaily
Loading...