Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

रोशन

सूरज की पहली किरण की रोशनी
तुम लाना हथेलियों में बंद कर
मैं लाऊँगी जुगनू उठा कर पलकों पर
चलो रोशन कर लेंगें
इसी से यह अंधेरा संसार!!

Language: Hindi
2 Likes · 222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
*ए.पी. जे. अब्दुल कलाम (हिंदी गजल)*
*ए.पी. जे. अब्दुल कलाम (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दर्द ना अश्कों का है ना ही किसी घाव का है.!
दर्द ना अश्कों का है ना ही किसी घाव का है.!
शेखर सिंह
23, मायके की याद
23, मायके की याद
Dr Shweta sood
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हो रही बरसात झमाझम....
हो रही बरसात झमाझम....
डॉ. दीपक मेवाती
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो निरंतर चलता रहता है,
वो निरंतर चलता रहता है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
अपने हाथ,
अपने हाथ,
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हाथ की उंगली😭
हाथ की उंगली😭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
करने लगा मैं ऐसी बचत
करने लगा मैं ऐसी बचत
gurudeenverma198
"स्मृति"
Dr. Kishan tandon kranti
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
Kishore Nigam
जिंदगी में मस्त रहना होगा
जिंदगी में मस्त रहना होगा
Neeraj Agarwal
जी चाहता है रूठ जाऊँ मैं खुद से..
जी चाहता है रूठ जाऊँ मैं खुद से..
शोभा कुमारी
बचपन का प्रेम
बचपन का प्रेम
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
2861.*पूर्णिका*
2861.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हवा बहुत सर्द है
हवा बहुत सर्द है
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
विषम परिस्थितियों से डरना नहीं,
विषम परिस्थितियों से डरना नहीं,
Trishika S Dhara
होली
होली
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
मन
मन
Neelam Sharma
गजल सी रचना
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
आसमान
आसमान
Dhirendra Singh
■
■ "मान न मान, मैं तेरा मेहमान" की लीक पर चलने का सीधा सा मतल
*Author प्रणय प्रभात*
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जवानी
जवानी
Pratibha Pandey
मां
मां
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Be with someone you can call
Be with someone you can call "home".
पूर्वार्थ
ज़िंदगी थी कहां
ज़िंदगी थी कहां
Dr fauzia Naseem shad
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
Sanjay ' शून्य'
Loading...