Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2017 · 1 min read

रेलर्व लाईन

पार्क में सुबह – सुबह घुम रहाँ हूँ। तभी आगं बुझाने वाली गाड़ी की आवाज सुनाई देती है। मैनें सड़क की ओर देखा –
मैं और मेरा साथी दिलबाग पार्क से बाहर आ जाते है और उस गाड़ी की ओर चल देते है। गाड़ी रेलर्व लाईन के पास रूक जाती है और हम भी कुछ ही मिनट में वहाँ पहुँच जाते है। कुछ व्यक्ति कैमरें से तीन व्यक्तियों की सयुक्त रूप से फोटों खैच रहे है। मामलें का पता किया कि ये लोग रेलर्व लाईन के पास गंदगी फैला रहे है। फोटों खैचनें के बाद तीनों व्यक्तियों को गाड़ी में बैठा कर ले गये। तभी मेरा साथी दिलबाग बोला- ये कोई नहीं देखता है कि रेल गाड़ी तो रात-दिन रेलर्व लाईन को गंदा करती है जो रेल के डिब्बें में बैठा कर रेलर्व लाईन को गंदा करवाती है।

Language: Hindi
281 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2412.पूर्णिका
2412.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
bharat gehlot
तारीफ किसकी करूं किसको बुरा कह दूं
तारीफ किसकी करूं किसको बुरा कह दूं
कवि दीपक बवेजा
वैज्ञानिक युग और धर्म का बोलबाला/ आनंद प्रवीण
वैज्ञानिक युग और धर्म का बोलबाला/ आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
उदघोष
उदघोष
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इस गुज़रते साल में...कितने मनसूबे दबाये बैठे हो...!!
इस गुज़रते साल में...कितने मनसूबे दबाये बैठे हो...!!
Ravi Betulwala
आज की बेटियां
आज की बेटियां
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
प्यार में ही तकरार होती हैं।
प्यार में ही तकरार होती हैं।
Neeraj Agarwal
जब तात तेरा कहलाया था
जब तात तेरा कहलाया था
Akash Yadav
सत्य ही सनाान है , सार्वभौमिक
सत्य ही सनाान है , सार्वभौमिक
Leena Anand
किसान
किसान
Bodhisatva kastooriya
वही जो इश्क के अल्फाज़ ना समझ पाया
वही जो इश्क के अल्फाज़ ना समझ पाया
Shweta Soni
ले चल मुझे उस पार
ले चल मुझे उस पार
Satish Srijan
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
sushil sarna
सागर बोला सुन ज़रा, मैं नदिया का पीर
सागर बोला सुन ज़रा, मैं नदिया का पीर
Suryakant Dwivedi
मनी प्लांट
मनी प्लांट
कार्तिक नितिन शर्मा
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"भूल से भी देख लो,
*Author प्रणय प्रभात*
उतरन
उतरन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
दुष्यन्त 'बाबा'
हिन्द की हस्ती को
हिन्द की हस्ती को
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मूर्ख जनता-धूर्त सरकार
मूर्ख जनता-धूर्त सरकार
Shekhar Chandra Mitra
"अतीत"
Dr. Kishan tandon kranti
खुद के होते हुए भी
खुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
यूँ ही नही लुभाता,
यूँ ही नही लुभाता,
हिमांशु Kulshrestha
क्या ?
क्या ?
Dinesh Kumar Gangwar
कैदी
कैदी
Tarkeshwari 'sudhi'
यह कैसी खामोशी है
यह कैसी खामोशी है
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
💐प्रेम कौतुक-202💐
💐प्रेम कौतुक-202💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गीत।।। ओवर थिंकिंग
गीत।।। ओवर थिंकिंग
Shiva Awasthi
Loading...