Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 1 min read

रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।

रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
बाढ़ जाय खींचा तानी ह , अतेक न मुंह फुलाना चाहि ।

लखन यादव (गंवार)
गांव :- बरबसपुर, तह.:- नवागढ़ बेमेतरा (३६गढ़)

117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सच्चे- झूठे सब यहाँ,
सच्चे- झूठे सब यहाँ,
sushil sarna
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
Dr Tabassum Jahan
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ़ लेना सरकार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ़ लेना सरकार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
7) “आओ मिल कर दीप जलाएँ”
7) “आओ मिल कर दीप जलाएँ”
Sapna Arora
उनकी यादें
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
24/226. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/226. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रमेशराज के त्योहार एवं अवसरविशेष के बालगीत
रमेशराज के त्योहार एवं अवसरविशेष के बालगीत
कवि रमेशराज
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
" दौर "
Dr. Kishan tandon kranti
चौथापन
चौथापन
Sanjay ' शून्य'
अनुभूति
अनुभूति
Pratibha Pandey
टूटे न जब तक
टूटे न जब तक
Dr fauzia Naseem shad
सत्य की खोज अधूरी है
सत्य की खोज अधूरी है
VINOD CHAUHAN
न्याय यात्रा
न्याय यात्रा
Bodhisatva kastooriya
कलयुग मे घमंड
कलयुग मे घमंड
Anil chobisa
हनुमान जयंती
हनुमान जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
नैन खोल मेरी हाल देख मैया
नैन खोल मेरी हाल देख मैया
Basant Bhagawan Roy
रिमझिम बारिश
रिमझिम बारिश
अनिल "आदर्श"
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
इंसानियत का कत्ल
इंसानियत का कत्ल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अब मत करो ये Pyar और respect की बातें,
अब मत करो ये Pyar और respect की बातें,
Vishal babu (vishu)
स्थायित्व कविता
स्थायित्व कविता
Shyam Pandey
ये बिल्कुल मेरी मां जैसी ही है
ये बिल्कुल मेरी मां जैसी ही है
Shashi kala vyas
पहली दस्तक
पहली दस्तक
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
तुम्हारी आँखें...।
तुम्हारी आँखें...।
Awadhesh Kumar Singh
जलाओ प्यार के दीपक खिलाओ फूल चाहत के
जलाओ प्यार के दीपक खिलाओ फूल चाहत के
आर.एस. 'प्रीतम'
पार्वती
पार्वती
लक्ष्मी सिंह
ग़र वो जानना चाहतें तो बताते हम भी,
ग़र वो जानना चाहतें तो बताते हम भी,
ओसमणी साहू 'ओश'
Loading...