Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2023 · 2 min read

रिश्तों का एहसास

रिश्तों का एहसास

जैसे ही डॉक्टर ने बताया कि नेताजी की दोनों ही किडनियाँ पूरी तरह से खराब हो चुकी हैं और जब तक एक स्वस्थ व्यक्ति के किडनी का ट्रांसप्लांट न किया जाए, तब तक नेताजी की जान खतरे में है, सब लोग सकते में आ गए।
कल तक ‘जहाँ आपका पसीना गिरेगा, हम अपनी खून गिराएँगे’ का नारा अलापने वाले पार्टी और परिजन कन्नी काटने लगे। बोलना अलग चीज है और यूँ अपनी जान जोखिम में डालना अलग। नेताजी की बहुओं ने दबी जुबान से अपने-अपने पतियों को अपना अंतिम फैसला सुना दिया था, “देखिए जी, आपको बुरा लगे, तो लगे। मैं अपनी बात साफ-साफ कहे देती हूँ। पापाजी अपनी लाइफ तो जी चुके। अब उनके लिए आप अपनी जान खतरे में डालने की सोचना भी मत। अभी हमारी पूरी लाइफ पड़ी है। कुछ भी डिसीजन लेने से पहले आप बच्चों के बारे में जरूर सोचिएगा।”
नेताजी के किडनी फेलियर की बात सुनते ही उनकी बड़ी बेटी व्याकुल-सी हो गई। वह डॉक्टर से बोली, “सर, मैं पापाजी को अपनी एक किडनी डोनेट करूँगी। आप तुरंत इसकी प्रोसेस शुरू कर दीजिए।”
नेताजी वर्तमान में रिसते रिश्तों के दौर में बिटिया का उनके प्रति स्नेह, समर्पण और अकल्पनीय पारिवारिक दायित्व को देखकर अपना सारा दर्द भूल गए। स्नेहासिक्त स्वर में बेटी के सिर पर हाथ फेरते हुए बोले, “बेटा, तेरा बाप इतना कमजोर नहीं है कि वह अपनी बेटी की किडनी के सहारे जिए। तुम मेरी बिल्कुल भी चिंता मत करो। मुझे कुछ नहीं होने वाला है। इतनी आसानी से मैं मरनेवाला नहीं हूँ। इन डॉक्टर्स का क्या है, ये तो कुछ भी बोल देते हैं। उन्हें अपना धंधा जो चलाना है।”
बिटिया बोली, “पर पापाजी, आपकी ऐसी हालत हमसे देखी नहीं जा रही…। कितने कमजोर हो गए हैं आप।”
नेताजी ने उसे आश्वस्त किया, “बेटा, ये मेरे प्रति तुम्हारा स्नेह है। तुम चिंता मत करो। सब ठीक हो जाएगा। तुम देखना, बहुत जल्द मुझे कोई ब्रेन डेड या गंभीर दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति का किडनी मिल जाएगा और मैं अपने नाती-पोतों के साथ फुटबॉल खेलूँगा।”
बिटिया बोली, “पापा, मेरे एक किडनी डोनेट करने से मुझे कुछ नहीं होगा। इस दुनिया में लाखों ऐसे लोग हैं, जो एक किडनी के सहारे सामान्य लोगों की भाँति जीवन बिता रहे हैं।”
नेताजी बोले, “बेटा, मैं तुम्हारी भावनाओं की कद्र करता हूँ। मैं उन लाखों लोगों से जुदा हूँ। मुझमें इतना हौंसला नहीं है कि अपनी बेटी की किडनी का बोझ दिल में उठाकर सामान्य जीवन जी सकूँ।”
बिटिया तड़प उठी, “पर पापा…”
नेताजी बीच में बोल पड़े, “बस्स। बाप हूँ मैं तुम्हारा। मेरी अम्मा बनने की कोशिश मत करो। अब आगे और कुछ नहीं सुनना है मुझे। बस हफ्ता-पंद्रह दिन का इंतजार और कर लो। तब तक इंतजाम हो ही जाएगा बेटा। ईश्वर पर भरोसा रखो। वे कुछ न कुछ रास्ता जरूर निकालेंगे।”
पिता की बात सुनकर बिटिया निःशब्द हो ईश्वर को याद करने लगी।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

159 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ लोग कहते हैं कि मुहब्बत बस एक तरफ़ से होती है,
कुछ लोग कहते हैं कि मुहब्बत बस एक तरफ़ से होती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तू है
तू है
Satish Srijan
कोशी के वटवृक्ष
कोशी के वटवृक्ष
Shashi Dhar Kumar
“फेसबूक मित्रों की बेरुखी”
“फेसबूक मित्रों की बेरुखी”
DrLakshman Jha Parimal
नन्ही मिष्ठी
नन्ही मिष्ठी
Manu Vashistha
उस सावन के इंतजार में कितने पतझड़ बीत गए
उस सावन के इंतजार में कितने पतझड़ बीत गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
कई खयालों में...!
कई खयालों में...!
singh kunwar sarvendra vikram
बहना तू सबला हो🙏
बहना तू सबला हो🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हम भी अगर बच्चे होते
हम भी अगर बच्चे होते
नूरफातिमा खातून नूरी
हर कस्बे हर मोड़ पर,
हर कस्बे हर मोड़ पर,
sushil sarna
अफसोस
अफसोस
Dr. Kishan tandon kranti
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
कवि रमेशराज
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुमको वो पा लेगा इतनी आसानी से
तुमको वो पा लेगा इतनी आसानी से
Keshav kishor Kumar
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
Dr. Upasana Pandey
मातृशक्ति को नमन
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मे कोई समस्या नहीं जिसका
मे कोई समस्या नहीं जिसका
Ranjeet kumar patre
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मौन हूँ, अनभिज्ञ नही
मौन हूँ, अनभिज्ञ नही
संजय कुमार संजू
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
*आम आदमी क्या कर लेगा, जब चाहे दुत्कारो (मुक्तक)*
*आम आदमी क्या कर लेगा, जब चाहे दुत्कारो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
-- क्लेश तब और अब -
-- क्लेश तब और अब -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
संविधान से, ये देश चलता,
संविधान से, ये देश चलता,
SPK Sachin Lodhi
19--🌸उदासीनता 🌸
19--🌸उदासीनता 🌸
Mahima shukla
2449.पूर्णिका
2449.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
फूल खिले हैं डाली-डाली,
फूल खिले हैं डाली-डाली,
Vedha Singh
अनंतनाग में परचम फहरा गए
अनंतनाग में परचम फहरा गए
Harminder Kaur
जरूरी है
जरूरी है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
एक छोटी सी आश मेरे....!
एक छोटी सी आश मेरे....!
VEDANTA PATEL
Loading...