Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

रिश्ते

रिश्ते”

रिश्ते अब स्वार्थ के आगे बिखरने लगे हैं,
सामाजिकता में मूल्य अब गिरने लगे हैं।

स्वार्थ अब सिर पर चढ़ कर बोल रहा है,
मानव रिश्तों को लाभ हानि में तोल रहा है।

कोरोना वाइरस सा व्याप्त है अज्ञात डर,
वसीयत लिखी जाने लगी है अब घर-घर।

सम्पर्क के संसाधन तो अब भरपूर हो गए,
विडंबना पर रिश्ते एक दूजे से दूर हो गए।

जन-जन में अवसाद के क़िस्से भी आम हो गए,
एकल जीवन, रिश्तों की टूटन ही अंजाम हो गए।

रिश्तों में बिखराव समाज का व्यापक रोग है,
शायद इसके मूल में स्वार्थ और लोभ है।

इंसान रिश्तों के मामले में आज बेईमान हो गया,
स्वार्थ व विश्वासघात ही जैसे उसका ईमान हो गया।

ये मानव की बदक़िस्मती है, सहूर नहीं है,
विनाश तो सिर पर खड़ा अब दूर नहीं है।

179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Khajan Singh Nain
View all
You may also like:
कौन सा जादू टोना करते बाबा जी।
कौन सा जादू टोना करते बाबा जी।
सत्य कुमार प्रेमी
हर वो दिन खुशी का दिन है
हर वो दिन खुशी का दिन है
shabina. Naaz
इतनी सी बस दुआ है
इतनी सी बस दुआ है
Dr fauzia Naseem shad
3623.💐 *पूर्णिका* 💐
3623.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढते हैं ।
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढते हैं ।
Phool gufran
हे राम ।
हे राम ।
Anil Mishra Prahari
मित्र होना चाहिए
मित्र होना चाहिए
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
सरस्वती वंदना । हे मैया ,शारदे माँ
सरस्वती वंदना । हे मैया ,शारदे माँ
Kuldeep mishra (KD)
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
Ashwini sharma
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
gurudeenverma198
इंद्रधनुषी प्रेम
इंद्रधनुषी प्रेम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
काले दिन ( समीक्षा)
काले दिन ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मन मेरा गाँव गाँव न होना मुझे शहर
मन मेरा गाँव गाँव न होना मुझे शहर
Rekha Drolia
ज़हालत का दौर
ज़हालत का दौर
Shekhar Chandra Mitra
धार में सम्माहित हूं
धार में सम्माहित हूं
AMRESH KUMAR VERMA
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
Rj Anand Prajapati
सच
सच
Neeraj Agarwal
अति वृष्टि
अति वृष्टि
लक्ष्मी सिंह
*मन राह निहारे हारा*
*मन राह निहारे हारा*
Poonam Matia
■ शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर एक विशेष कविता...
■ शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर एक विशेष कविता...
*प्रणय प्रभात*
देशभक्ति जनसेवा
देशभक्ति जनसेवा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो मेरे बिन बताए सब सुन लेती
वो मेरे बिन बताए सब सुन लेती
Keshav kishor Kumar
मैं एक महल हूं।
मैं एक महल हूं।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हम भी कहीं न कहीं यूं तन्हा मिले तुझे
हम भी कहीं न कहीं यूं तन्हा मिले तुझे
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कल हमारे साथ जो थे
कल हमारे साथ जो थे
ruby kumari
किसी को इतना भी प्यार मत करो की उसके बिना जीना मुश्किल हो जा
किसी को इतना भी प्यार मत करो की उसके बिना जीना मुश्किल हो जा
रुचि शर्मा
"अजीब फलसफा"
Dr. Kishan tandon kranti
हुनर
हुनर
अखिलेश 'अखिल'
हम यथार्थ सत्य को स्वीकार नहीं कर पाते हैं
हम यथार्थ सत्य को स्वीकार नहीं कर पाते हैं
Sonam Puneet Dubey
Loading...