Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2023 · 1 min read

रास्ते है बड़े उलझे-उलझे

रास्ते है बड़े उलझे-उलझे,
चलना कितना मुश्किल है।

दिल है मेरा अब खाली-खाली,
दर्द को सहना अब मुश्किल है,
दूर बहुत है मन्जिल मेरी,
पग-पग चलना रुसवाई है।

रास्ते है बड़े उलझे-उलझे,
चलना कितना मुश्किल है।…।1।

प्यार तेरा जो दिल मे मेरे,
कैसे भूलू ये मुश्किल है,
देर बहुत अब हो गयी आने मे,
पथ मे ये रोड़े मिल रहे है।

रास्ते है बड़े उलझे-उलझे,
चलना कितना मुश्किल है।….।2।

जख़्म दिल के अब भरेंगे तब,
खोने का दर्द अब बाकि है,
रुकते नहीं ये आश्रु नयन के,
मिलने को तुझसे तरसते है।

रास्ते है बड़े उलझे-उलझे,
चलना कितना मुश्किल है।……।3।

मोड़ मे जब भी बिछड़ते है रास्ते,
सलामत रहे ये कहते है,
तन्हा रह कर गुजर जाएगा,
यादो के संग पहुंच जाएंगे।

रास्ते है बड़े उलझे-उलझे,
चलना कितना मुश्किल है।….।4।

मुश्किलें भरी हो कितना ये सफर,
तेरे प्यार के सहारे कट जाएगा,
बटेंगे नहीं ये राह मे मगर,
दिल चाहे मेरा ये टूट जाए।

रास्ते है बड़े उलझे-उलझे,
चलना कितना मुश्किल है।……।5।

रचनाकार –
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
पूर्वार्थ
Tufan ki  pahle ki khamoshi ka andesha mujhe hone hi laga th
Tufan ki pahle ki khamoshi ka andesha mujhe hone hi laga th
Sakshi Tripathi
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
Dr. Kishan Karigar
रंगों के पावन पर्व होली की आप सभी को हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभ
रंगों के पावन पर्व होली की आप सभी को हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभ
आर.एस. 'प्रीतम'
ऐसे जीना जिंदगी,
ऐसे जीना जिंदगी,
sushil sarna
शीर्षक:-आप ही बदल गए।
शीर्षक:-आप ही बदल गए।
Pratibha Pandey
भीड़ पहचान छीन लेती है
भीड़ पहचान छीन लेती है
Dr fauzia Naseem shad
तारीफों में इतने मगरूर हो गए थे
तारीफों में इतने मगरूर हो गए थे
कवि दीपक बवेजा
यदि आपका स्वास्थ्य
यदि आपका स्वास्थ्य
Paras Nath Jha
आंसू
आंसू
नूरफातिमा खातून नूरी
लिया समय ने करवट
लिया समय ने करवट
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
माफ़ कर दे कका
माफ़ कर दे कका
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कैसे कहूँ ‘आनन्द‘ बनने में ज़माने लगते हैं
कैसे कहूँ ‘आनन्द‘ बनने में ज़माने लगते हैं
Anand Kumar
-दीवाली मनाएंगे
-दीवाली मनाएंगे
Seema gupta,Alwar
हिंदी दोहा- अर्चना
हिंदी दोहा- अर्चना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
झुर्रियों तक इश्क़
झुर्रियों तक इश्क़
Surinder blackpen
वक़्त की पहचान🙏
वक़्त की पहचान🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
Rekha khichi
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
Ranjeet kumar patre
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
World Book Day
World Book Day
Tushar Jagawat
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
कवि रमेशराज
तेरी यादों के सहारे वक़्त गुजर जाता है
तेरी यादों के सहारे वक़्त गुजर जाता है
VINOD CHAUHAN
नशा और युवा
नशा और युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
3042.*पूर्णिका*
3042.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लेखक
लेखक
Shweta Soni
"आज और अब"
Dr. Kishan tandon kranti
ताजमहल
ताजमहल
Satish Srijan
Loading...