Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2023 · 1 min read

राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी

प्यारे बापू का रहा, सीधा सादा वेश।
राष्ट्र पिता के नाम से,जाने पूरा देश।।

देश प्रेम के वास्ते, छोड़ें अपना ठाठ ।
सत्य अहिंसा शांति का, दिये सभी को पाठ।।

आँखों पर चश्मा चढ़ा, लाठी लेकर हाथ।
जाते थे बापू जिधर,जग होता था साथ।।

खादी की धोती पहन, चलते नंगे पाँव ।
झूठ कभी बोले नहीं,रहें सत्य की ठाँव।।

दिव्य स्वदेशी भावना,थे विवेक के पुंज।
सहज अहिंसक प्रेममय,क्षमा शांति के कुंज। ।

शुद्ध बुद्ध था आत्मा,परम तपस्वी वीर।
धन्य हुई माँ भारती,पाकर प्रखर सुधीर।।

साफ सफाई पर दिये, सदा उन्होंने जोर।
मात भारती से जुड़ी, रही हृदय की डोर।।

देश भक्ति की भावना,फैलाये चहुँ ओर।
चरखा,खादी वस्त्र पर,दिया हमेशा जोर।।

त्याग तपस्या साधना,निर्मल उच्च विचार।
भारी था अंग्रेज पर,गाँधी जी का वार।।

जन-जन मन में फूंक दी, आजादी का मंत्र।
बिना खड्ग बिन ढाल के,भारत किया स्वतंत्र।।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

Language: Hindi
167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
Neeraj Agarwal
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
मंजिल तो  मिल जाने दो,
मंजिल तो मिल जाने दो,
Jay Dewangan
छू लेगा बुलंदी को तेरा वजूद अगर तुझमे जिंदा है
छू लेगा बुलंदी को तेरा वजूद अगर तुझमे जिंदा है
'अशांत' शेखर
समझना है ज़रूरी
समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
सुख दुःख
सुख दुःख
जगदीश लववंशी
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
कवि रमेशराज
#आलेख-
#आलेख-
*Author प्रणय प्रभात*
प्यार की दिव्यता
प्यार की दिव्यता
Seema gupta,Alwar
दिवाली
दिवाली
नूरफातिमा खातून नूरी
Never trust people who tells others secret
Never trust people who tells others secret
Md Ziaulla
तनहाई की शाम
तनहाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
Rj Anand Prajapati
शिछा-दोष
शिछा-दोष
Bodhisatva kastooriya
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हे मनुज श्रेष्ठ
हे मनुज श्रेष्ठ
Dr.Pratibha Prakash
"बिल्ली कहती म्याऊँ"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ का महत्व
माँ का महत्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ऋतुराज
ऋतुराज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
💐प्रेम कौतुक-455💐
💐प्रेम कौतुक-455💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उनकी तोहमत हैं, मैं उनका ऐतबार नहीं हूं।
उनकी तोहमत हैं, मैं उनका ऐतबार नहीं हूं।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
पुष्प
पुष्प
Dhirendra Singh
सामाजिक रिवाज
सामाजिक रिवाज
Anil "Aadarsh"
धूप निकले तो मुसाफिर को छांव की जरूरत होती है
धूप निकले तो मुसाफिर को छांव की जरूरत होती है
कवि दीपक बवेजा
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
Bramhastra sahityapedia
मीठी जलेबी
मीठी जलेबी
rekha mohan
3115.*पूर्णिका*
3115.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*ऋषि अगस्त्य ने राह सुझाई (कुछ चौपाइयॉं)*
*ऋषि अगस्त्य ने राह सुझाई (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
*नशा तेरे प्यार का है छाया अब तक*
*नशा तेरे प्यार का है छाया अब तक*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
Loading...