Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Nov 2023 · 1 min read

राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।

राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
तनमन पावन निश्चल करे, राम मय हो जाए।

2 Likes · 112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" बुलबुला "
Dr Meenu Poonia
साजिशन दुश्मन की हर बात मान लेता है
साजिशन दुश्मन की हर बात मान लेता है
Maroof aalam
हम आए हैं बुद्ध के देश से
हम आए हैं बुद्ध के देश से
Shekhar Chandra Mitra
পৃথিবীর সবচেয়ে সুন্দর মেয়েদের
পৃথিবীর সবচেয়ে সুন্দর মেয়েদের
Sakhawat Jisan
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
Surinder blackpen
गीतिका...
गीतिका...
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रेम एक सहज भाव है जो हर मनुष्य में कम या अधिक मात्रा में स
प्रेम एक सहज भाव है जो हर मनुष्य में कम या अधिक मात्रा में स
Dr MusafiR BaithA
अजीब होता है बुलंदियों का सबब
अजीब होता है बुलंदियों का सबब
कवि दीपक बवेजा
धुँधली तस्वीर
धुँधली तस्वीर
DrLakshman Jha Parimal
अगनित अभिलाषा
अगनित अभिलाषा
Dr. Meenakshi Sharma
विनम्रता
विनम्रता
Bodhisatva kastooriya
Life
Life
C.K. Soni
सच्ची मेहनत कभी भी, बेकार नहीं जाती है
सच्ची मेहनत कभी भी, बेकार नहीं जाती है
gurudeenverma198
आयी ऋतु बसंत की
आयी ऋतु बसंत की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
2754. *पूर्णिका*
2754. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
जगदीश शर्मा सहज
पहले आप
पहले आप
Shivkumar Bilagrami
■ जारी रही दो जून की रोटी की जंग
■ जारी रही दो जून की रोटी की जंग
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हारी निगाहें
तुम्हारी निगाहें
Er. Sanjay Shrivastava
"ऊँची ऊँची परवाज़ - Flying High"
Sidhartha Mishra
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
अंसार एटवी
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
कवि रमेशराज
*याद तुम्हारी*
*याद तुम्हारी*
Poonam Matia
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
manjula chauhan
वाक़िफ नहीं है कोई
वाक़िफ नहीं है कोई
Dr fauzia Naseem shad
*चंद्रयान (बाल कविता)*
*चंद्रयान (बाल कविता)*
Ravi Prakash
A Departed Soul Can Never Come Again
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
कमरछठ, हलषष्ठी
कमरछठ, हलषष्ठी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Loading...