Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Oct 2023 · 1 min read

राम जैसा मनोभाव

पग पग संग एक डगर चलें
बदल जाएगी ऋतु चहुंओर
सामूहिक शक्ति से निपटेंगी
जन समस्याएं भी बगैर शोर

संगठन में शक्ति है ये बतला
गए पुरखे और साधु सयाने
भूले तब से हम सब गा रहे
बेबसी औ लाचारी के तराने

राम, कृष्ण के देश में दिखता
आज हर तरफ अजब माहौल
कुछ संगठित लोग ही सरेआम
उड़ा रहे मानवता का मखौल

हे ईश्वर मेरे देश के लोगों को
दीजिए राम जैसा मनोभाव
सब जीवों को संगठित कर
बदल दे वो नियति के दांव

Language: Hindi
1 Like · 98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अभी अभी तो इक मिसरा बना था,
अभी अभी तो इक मिसरा बना था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*ऐनक (बाल कविता)*
*ऐनक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
2541.पूर्णिका
2541.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
धोखा था ये आंख का
धोखा था ये आंख का
RAMESH SHARMA
जिन्दगी की पाठशाला
जिन्दगी की पाठशाला
Ashokatv
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तीन बुंदेली दोहा- #किवरिया / #किवरियाँ
तीन बुंदेली दोहा- #किवरिया / #किवरियाँ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"हालात"
Dr. Kishan tandon kranti
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
Dilip Kumar
कवि के उर में जब भाव भरे
कवि के उर में जब भाव भरे
लक्ष्मी सिंह
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
Arghyadeep Chakraborty
फागुन की अंगड़ाई
फागुन की अंगड़ाई
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
दर्पण में जो मुख दिखे,
दर्पण में जो मुख दिखे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चाँदनी
चाँदनी
नन्दलाल सुथार "राही"
एक पराई नार को 💃🏻
एक पराई नार को 💃🏻
Yash mehra
*हम नदी के दो किनारे*
*हम नदी के दो किनारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
क्योंकि मै प्रेम करता हु - क्योंकि तुम प्रेम करती हो
क्योंकि मै प्रेम करता हु - क्योंकि तुम प्रेम करती हो
Basant Bhagawan Roy
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
* मन कही *
* मन कही *
surenderpal vaidya
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
Dushyant Kumar Patel
ओझल मनुआ मोय
ओझल मनुआ मोय
श्रीहर्ष आचार्य
आजकल के समाज में, लड़कों के सम्मान को उनकी समझदारी से नहीं,
आजकल के समाज में, लड़कों के सम्मान को उनकी समझदारी से नहीं,
पूर्वार्थ
🪁पतंग🪁
🪁पतंग🪁
Dr. Vaishali Verma
फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा
फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
--> पुण्य भूमि भारत <--
--> पुण्य भूमि भारत <--
Ms.Ankit Halke jha
राजाधिराज महाकाल......
राजाधिराज महाकाल......
Kavita Chouhan
*जीवन का आधार है बेटी,
*जीवन का आधार है बेटी,
Shashi kala vyas
संचित सब छूटा यहाँ,
संचित सब छूटा यहाँ,
sushil sarna
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...