Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2024 · 1 min read

राम के जैसा पावन हो, वो नाम एक भी नहीं सुना।

गीत –

राम के जैसा पावन हो, वो नाम एक भी नहीं सुना।
रावण तो बन गये हजारों, राम एक भी नहीं बना।।

राम नाम कहने को केवल, उनके पथ पर नहीं चले।
कलियुग में भी रामराज्य का, हम सब सपना देख रहे।
पाप कर्म आकाश छू रहे पुण्य धर्म रह गया पड़ा।1
(रावण तो बन गये हजारों, राम एक भी नहीं बना।)

नारी की इज्जत जब देखो तार तार हो जाती है।
रोज़ खबर सुन लो सीता जबरन ले जाई जाती है।
उसे बचाने वीर जटायु बन कर कोई नहीं लड़ा।2
(रावण तो बन गये हजारों, राम एक भी नहीं बना।)

कलयुग में भी वनवासी है राम अयोध्या आएंगे।
शायद वो ही जनमानस के कष्टों को हर पाएंगे।
क्या होगा, कितने रावण है,अगर युद्ध इक बार ठना।3
(रावण तो बन गये हजारों, राम एक भी नहीं बना।)

……..✍️ सत्य कुमार प्रेमी

Language: Hindi
Tag: गीत
86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Jo milta hai
Jo milta hai
Sakshi Tripathi
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
कवि दीपक बवेजा
आरक्षण बनाम आरक्षण / MUSAFIR BAITHA
आरक्षण बनाम आरक्षण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
Namrata Sona
हम तुमको अपने दिल में यूँ रखते हैं
हम तुमको अपने दिल में यूँ रखते हैं
Shweta Soni
रोटी की क़ीमत!
रोटी की क़ीमत!
कविता झा ‘गीत’
"मीरा के प्रेम में विरह वेदना ऐसी थी"
Ekta chitrangini
जग जननी
जग जननी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पूर्वार्थ
#परिहास-
#परिहास-
*Author प्रणय प्रभात*
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिन्दगी से शिकायत न रही
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
****** घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार ******
****** घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
न्याय होता है
न्याय होता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
Rj Anand Prajapati
जिंदगी का सवेरा
जिंदगी का सवेरा
Dr. Man Mohan Krishna
प्रीतम के दोहे
प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
विभेद दें।
विभेद दें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पुष्प रुष्ट सब हो गये,
पुष्प रुष्ट सब हो गये,
sushil sarna
-- अंतिम यात्रा --
-- अंतिम यात्रा --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बस्ते...!
बस्ते...!
Neelam Sharma
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मजबूत रिश्ता
मजबूत रिश्ता
Buddha Prakash
"YOU ARE GOOD" से शुरू हुई मोहब्बत "YOU
nagarsumit326
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
Awadhesh Kumar Singh
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
क्यों बनना गांधारी?
क्यों बनना गांधारी?
Dr. Kishan tandon kranti
वर्णिक छंद में तेवरी
वर्णिक छंद में तेवरी
कवि रमेशराज
"जय जवान जय किसान" - आर्टिस्ट (कुमार श्रवण)
Shravan singh
हाइकु haiku
हाइकु haiku
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...