Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2023 · 1 min read

रात है यह काली

रात है यह काली,
और नैन बरस रहे।
सत्य सुनने को नहीं खाली,
हम कहने को तरस रहे।।

आग लगा कर वो हंसते है,
और हम खा रहे है गाली।
शूल भरे अब जीवन के रस्ते है,
मजा लेकर वो बजा रहे ताली।।

हमने उनका क्या बिगाड़ा,
सदा चाही खुशहाली।
अपनो ने ही हमें लताड़ा,
कैसी आई यह रात काली।।

जी रहे है जिम्मेदारी के लिए,
मुस्कान भी लिए है जाली।
जला रखें है उम्मीद के दिए,
यह रात है बड़ी काली।।

किए है हमने बड़े बड़े संघर्ष,
भूख के लिए खाई है गाली।
जब मिला है थोड़ा हर्ष,
रात आई है बड़ी काली।।

अपने लिए हम जिए नहीं,
उनकी ही खुशियां संभाली।
कह रहें है हम बात सही,
वो सुनने को नहीं है खाली।।

अंतर्मन टूट रहा पल पल,
पी रहें है विष की प्याली।
अविश्वास का है दलदल,
कोई दिखा दे रात उजाली।।
—— जेपीएल

Language: Hindi
1 Like · 91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from जगदीश लववंशी

You may also like:
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
श्याम सिंह बिष्ट
चंद फूलों की खुशबू से कुछ नहीं होता
चंद फूलों की खुशबू से कुछ नहीं होता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शक्कर की माटी
शक्कर की माटी
विजय कुमार नामदेव
श्रीजन के वास्ते आई है धरती पर वो नारी है।
श्रीजन के वास्ते आई है धरती पर वो नारी है।
Prabhu Nath Chaturvedi
आज़ाद सोच लिखे आज़ादी ,
आज़ाद सोच लिखे आज़ादी ,
Skanda Joshi
तुम्हारे जाने के बाद...
तुम्हारे जाने के बाद...
Prem Farrukhabadi
धोखा खाना क्या बुरा, धोखा खाना ठीक (कुंडलिया )
धोखा खाना क्या बुरा, धोखा खाना ठीक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
कुछ ख्वाब
कुछ ख्वाब
Rashmi Ratn
लौटना मुश्किल होता है
लौटना मुश्किल होता है
Saraswati Bajpai
बुद्ध बुद्धत्व कहलाते है।
बुद्ध बुद्धत्व कहलाते है।
Buddha Prakash
दुखद अंत 🐘
दुखद अंत 🐘
Rajni kapoor
दिनकर की दीप्ति
दिनकर की दीप्ति
AJAY AMITABH SUMAN
अपना सपना :
अपना सपना :
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
Satish Srijan
ज़िंदा हो ,ज़िंदगी का कुछ तो सबूत दो।
ज़िंदा हो ,ज़िंदगी का कुछ तो सबूत दो।
Khem Kiran Saini
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
तुम मन मंदिर में आ जाना
तुम मन मंदिर में आ जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ मौसमी दोहा
■ मौसमी दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-43💐
💐अज्ञात के प्रति-43💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Siksha ke vikas ke satat prayash me khud ka yogdan de ,
Siksha ke vikas ke satat prayash me khud ka yogdan de ,
Sakshi Tripathi
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Rap song (1)
Rap song (1)
Nishant prakhar
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बलिदानी सिपाही
बलिदानी सिपाही
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वो खूबसूरत है
वो खूबसूरत है
रोहताश वर्मा मुसाफिर
तोड़ी कच्ची आमियाँ, चटनी लई बनाय
तोड़ी कच्ची आमियाँ, चटनी लई बनाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हार मानूंगा नही।
हार मानूंगा नही।
Rj Anand Prajapati
जीवन को जीवन सा
जीवन को जीवन सा
Dr fauzia Naseem shad
दिल कुछ आहत् है
दिल कुछ आहत् है
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...