Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

रात का आलम किसने देखा

रात का आलम किसने देखा
भोर की सबको आशा है

रस्तो से किसको मतलब है
बस मंजिल की अभिलाषा है

बिना श्रम के कर्म भूमि पर
दिखती अजब निराशा है

सागर में भी रहकर के
मानव क्यो ये प्यासा है

✍️𝐃𝐞𝐞𝐩𝐚𝐤 𝐬𝐚𝐫𝐚𝐥☑️⬆️

68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
World Environmental Day
World Environmental Day
Tushar Jagawat
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अगर बदलने का अर्थ
अगर बदलने का अर्थ
Sonam Puneet Dubey
रोज रात जिन्दगी
रोज रात जिन्दगी
Ragini Kumari
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
Neelam Sharma
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
Ravi Betulwala
स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती
स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बड़े अगर कोई बात कहें तो उसे
बड़े अगर कोई बात कहें तो उसे
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"गरीबों की दिवाली"
Yogendra Chaturwedi
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Godambari Negi
ਮਿਲੇ ਜਦ ਅਰਸੇ ਬਾਅਦ
ਮਿਲੇ ਜਦ ਅਰਸੇ ਬਾਅਦ
Surinder blackpen
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कुछ इस तरह से खेला
कुछ इस तरह से खेला
Dheerja Sharma
आत्मबल
आत्मबल
Punam Pande
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
Slok maurya "umang"
I Fall In Love
I Fall In Love
Vedha Singh
"शिष्ट लेखनी "
DrLakshman Jha Parimal
आपन गांव
आपन गांव
अनिल "आदर्श"
ତୁମ ର ହସ
ତୁମ ର ହସ
Otteri Selvakumar
मैं तो अंहकार आँव
मैं तो अंहकार आँव
Lakhan Yadav
"योगी-योगी"
*प्रणय प्रभात*
3051.*पूर्णिका*
3051.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोस्ती का एहसास
दोस्ती का एहसास
Dr fauzia Naseem shad
शांति युद्ध
शांति युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
"धीरे-धीरे"
Dr. Kishan tandon kranti
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
Paras Nath Jha
मस्ती का त्योहार है,
मस्ती का त्योहार है,
sushil sarna
22)”शुभ नवरात्रि”
22)”शुभ नवरात्रि”
Sapna Arora
Loading...