Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2024 · 1 min read

“राज़-ए-इश्क़” ग़ज़ल

कौन सा ज़ख़्म नया,अब वो, देने आये हैं,
देखकर मुझको,आज फिर वो मुस्कुराये हैं।

कैसे कह दूँ, कि हर सिमत ही ख़ुशगवारी है,
चाँदनी रात मेँ भी, कुछ मुहिब से साए हैँ।

हमें न पाठ, पढ़ाएं वो, सब्र का हरगिज़,
पिए हैं अश्क़, पर शिकन न रुख़ पे लाए हैं।

करेंगे क्या, वो गिला मुझसे, बताए कोई,
हम तो उल्फ़त की, हरेक रस्म को निभाए हैं।

भले ही रब्त, उस्तवार हम, करते ही रहे,
न जाने क्यूँ उन्हें तो ग़ैर ही, पर, भाए हैं।

यूँ तो अब गुफ़्तगू, उनसे, नही होती मेरी,
दिल मेँ मेरे तभी भी, वो ही वो, समाए हैं।

राज़-ए-इश्क़, दफ़न हो चुका कब का दिल मेँ,
लबों पे नाम, न लाने की, क़सम खाए हैं।

रहगुज़र उनकी, मनव्वर रहे, इसी ख़ातिर,
हम तो मुद्दत से,अपने दिल को ही,जलाए हैं।

कौन किसका हुआ,जहाँ मेँ,कहूँ क्या”आशा”,
जो थे अपने, वो आज, हो गए, पराए हैं..!

सिमत # तरफ़, ओर, towards, direction etc.
मुहिब # डरावने, frightening
उल्फ़त # प्रेम, love
रब्त # रिश्ता, relationship
उस्तवार # मज़बूत करना, to strengthen
रहगुज़र # रास्ता, pathwayमनव्वर # प्रकाशित, illuminated

##————##————##————##

Language: Hindi
4 Likes · 4 Comments · 47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
From dust to diamond.
From dust to diamond.
Manisha Manjari
जय माता दी
जय माता दी
Raju Gajbhiye
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3191.*पूर्णिका*
3191.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
12. *नारी- स्थिति*
12. *नारी- स्थिति*
Dr Shweta sood
संतुलित रखो जगदीश
संतुलित रखो जगदीश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तलास है उस इंसान की जो मेरे अंदर उस वक्त दर्द देख ले जब लोग
तलास है उस इंसान की जो मेरे अंदर उस वक्त दर्द देख ले जब लोग
Rituraj shivem verma
दुनिया
दुनिया
Jagannath Prajapati
मन
मन
Happy sunshine Soni
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
Pramila sultan
ଅହଙ୍କାର
ଅହଙ୍କାର
Bidyadhar Mantry
💐 *दोहा निवेदन*💐
💐 *दोहा निवेदन*💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
बदनसीब लाइका ( अंतरिक्ष पर भेजी जाने वाला पशु )
बदनसीब लाइका ( अंतरिक्ष पर भेजी जाने वाला पशु )
ओनिका सेतिया 'अनु '
*चालू झगड़े हैं वहॉं, संस्था जहॉं विशाल (कुंडलिया)*
*चालू झगड़े हैं वहॉं, संस्था जहॉं विशाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नया साल
नया साल
Mahima shukla
सोचो अच्छा आज हो, कल का भुला विचार।
सोचो अच्छा आज हो, कल का भुला विचार।
आर.एस. 'प्रीतम'
They say,
They say, "Being in a relationship distracts you from your c
पूर्वार्थ
खुद से भी सवाल कीजिए
खुद से भी सवाल कीजिए
Mahetaru madhukar
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
बन्द‌ है दरवाजा सपने बाहर खड़े हैं
बन्द‌ है दरवाजा सपने बाहर खड़े हैं
Upasana Upadhyay
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
प्यार के सिलसिले
प्यार के सिलसिले
Basant Bhagawan Roy
" ठिठक गए पल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
"सैल्यूट"
Dr. Kishan tandon kranti
■ रोने से क्या होने वाला...?
■ रोने से क्या होने वाला...?
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी की अहमियत
ज़िंदगी की अहमियत
Dr fauzia Naseem shad
शब्द
शब्द
Paras Nath Jha
जिंदगी एक आज है
जिंदगी एक आज है
Neeraj Agarwal
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
कवि रमेशराज
Loading...