Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

राजनैतिक गिरावट

राजनैतिक गिरावट

राजनीति आज बिलकुल बेशर्म हो गई,
सत्ता प्राप्ति ही एकमात्र धर्म हो गई।

देश सेवा तो बस नारों की ही बात है,
हर क्षण धन कमाने की ही घात है।

राजनेता इतिहास नया अब लिखने लगे हैं,
खुलम-खुला बेशर्मी से बिकने लगे हैं।

सत्ता पाना सेवा नहीं इनका धंधा हो गया,
सत्ता प्राप्ति का खेल कितना गंदा हो गया।

पतन हो गया राजनीति का संशय नहीं है,
नैतिकता जैसे राजनीति का विषय नहीं है।

वेलफ़ेयर स्टेट अपना गुण-धर्म छोड़ रही है,
देश में स्वायत संस्थाएँ दम तोड़ रही हैं।

2 Likes · 229 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Khajan Singh Nain
View all
You may also like:
अध्यात्म
अध्यात्म
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
Dr Tabassum Jahan
रंगो ने दिलाई पहचान
रंगो ने दिलाई पहचान
Nasib Sabharwal
यादों की शमा जलती है,
यादों की शमा जलती है,
Pushpraj Anant
-- मौत का मंजर --
-- मौत का मंजर --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*
*"ममता"* पार्ट-4
Radhakishan R. Mundhra
टाईम पास .....लघुकथा
टाईम पास .....लघुकथा
sushil sarna
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
Gouri tiwari
आज की हकीकत
आज की हकीकत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ
रंगीन हुए जा रहे हैं
रंगीन हुए जा रहे हैं
हिमांशु Kulshrestha
" धरती का क्रोध "
Saransh Singh 'Priyam'
"सहेज सको तो"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
पूर्वार्थ
2511.पूर्णिका
2511.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गमों की चादर ओढ़ कर सो रहे थे तन्हां
गमों की चादर ओढ़ कर सो रहे थे तन्हां
Kumar lalit
*बाढ़*
*बाढ़*
Dr. Priya Gupta
ये  दुनियाँ है  बाबुल का घर
ये दुनियाँ है बाबुल का घर
Sushmita Singh
* हो जाता ओझल *
* हो जाता ओझल *
surenderpal vaidya
*क्षीर सागर (बाल कविता)*
*क्षीर सागर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
प्यारी तितली
प्यारी तितली
Dr Archana Gupta
मन की डोर
मन की डोर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
नेता
नेता
Punam Pande
"सम्मान व संस्कार व्यक्ति की मृत्यु के बाद भी अस्तित्व में र
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
Sanjay ' शून्य'
देशभक्ति एवं राष्ट्रवाद
देशभक्ति एवं राष्ट्रवाद
Shyam Sundar Subramanian
ये खत काश मेरी खामोशियां बयां कर पाती,
ये खत काश मेरी खामोशियां बयां कर पाती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
है जिसका रहमो करम और प्यार है मुझ पर।
है जिसका रहमो करम और प्यार है मुझ पर।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरा देश महान
मेरा देश महान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...