Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Oct 2023 · 1 min read

सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा

जय जोहार
“चुनाव आते है चुनाव जाते है ,कभी कांग्रेस जीतती है कभी बीजेपी जीतती है लेकिन जल जंगल जमीन का असली हकदार ,धरती का मूलबीज मूलवंश मेरा भोला भाला आदिवासी समाज हर बार अपनी समस्याओं के साथ हार जाता है, आगे भी कांग्रेस जीतेगी बीजेपी हारेगी, कभी बीजेपी जीतेगी कांग्रेस हारेगी ,मैं पूछता हूं वो दिन कब आएगा जब मेरा आदिवासी समाज जीतेगा और आदिवासी समाज के दुख से कोसों दूर खड़े ये दोनों राजनीतिक दलों की हार होगी ? आप सभी पढ़ें लिखे समझदार डिग्रीधारी बेरोजगार युवाओं से विनम्र अपील है लोकतंत्र के इस महाकुंभ में भाग लेकर वंशवादी , क्षेत्रवादी, जातिवाद, अवसरवादी, दल-बदल राजनीति को समाप्त करने व अपने अस्तित्व को बचाने के लिए संघर्ष कर रहे कुदरती आदिवासी समाज को जीत दिलाने में अपनी सकारात्मक भूमिका अदा करें।आपके गांव में लालचस्वरुप आदिवासी वोट खरीदने हेतु बांटे जाने वाले दारू,मुर्गा,मटन,पैसा, साड़ी, बर्तन का तत्काल बहिष्कार करें, विरोध करें। क्षेत्र,समाज तथा राष्ट्र की मूलभूत समस्याओं को ध्यान में रखकर वोट करें। सत्ता की हवस लोकतान्त्रिक सिद्धांत तथा शिष्टाचार का नाश कर देती है।”
:राकेश देवडे़ बिरसावादी
(सामाजिक कार्यकर्ता)

Language: Hindi
284 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मकानों में रख लिया
मकानों में रख लिया
abhishek rajak
मुहब्बत हुयी थी
मुहब्बत हुयी थी
shabina. Naaz
"कला"
Dr. Kishan tandon kranti
माणुष
माणुष
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
Manoj Mahato
रिश्ते-नाते
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Sakshi Tripathi
सुबह की चाय मिलाती हैं
सुबह की चाय मिलाती हैं
Neeraj Agarwal
क्या अब भी तुम न बोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
Rekha Drolia
"शीशा और रिश्ता बड़े ही नाजुक होते हैं
शेखर सिंह
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
गुप्तरत्न
dream of change in society
dream of change in society
Desert fellow Rakesh
*विभाजन-विभीषिका : दस दोहे*
*विभाजन-विभीषिका : दस दोहे*
Ravi Prakash
वीर गाथा है वीरों की ✍️
वीर गाथा है वीरों की ✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
3268.*पूर्णिका*
3268.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
Shashi kala vyas
इस बार
इस बार "अमेठी" नहीं "रायबरैली" में बनेगी "बरेली की बर्फी।"
*Author प्रणय प्रभात*
“दुमका संस्मरण 3” ट्रांसपोर्ट सेवा (1965)
“दुमका संस्मरण 3” ट्रांसपोर्ट सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
छोड़ने वाले तो एक क्षण में छोड़ जाते हैं।
छोड़ने वाले तो एक क्षण में छोड़ जाते हैं।
लक्ष्मी सिंह
रूप कुदरत का
रूप कुदरत का
surenderpal vaidya
ये नयी सभ्यता हमारी है
ये नयी सभ्यता हमारी है
Shweta Soni
गाँव का दृश्य (गीत)
गाँव का दृश्य (गीत)
प्रीतम श्रावस्तवी
i always ask myself to be worthy of things, of the things th
i always ask myself to be worthy of things, of the things th
पूर्वार्थ
कि लड़का अब मैं वो नहीं
कि लड़का अब मैं वो नहीं
The_dk_poetry
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बूढ़ी माँ .....
बूढ़ी माँ .....
sushil sarna
के अब चराग़ भी शर्माते हैं देख तेरी सादगी को,
के अब चराग़ भी शर्माते हैं देख तेरी सादगी को,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बखान सका है कौन
बखान सका है कौन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
माँ
माँ
shambhavi Mishra
एकाकीपन
एकाकीपन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...