Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

रजनी (कुंडलिया)

रजनी (कुंडलिया)
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
आती रजनी सुख भरी ,इसमें शांति प्रधान
सोता इसकी गोद में ,जगत बिना व्यवधान
जगत बिना व्यवधान , सुखद अंधेरा भाता
पलकें होतीं बंद , सूर्य का शोर न आता
कहते रवि कविराय ,आँख कब है चुँधियाती
सघन कालिमा व्याप्त ,मधुर रजनी जब आती
●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
अंगदान
अंगदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमसफ़र
हमसफ़र
अखिलेश 'अखिल'
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
सत्य कुमार प्रेमी
प्यार को शब्दों में ऊबारकर
प्यार को शब्दों में ऊबारकर
Rekha khichi
बंधन यह अनुराग का
बंधन यह अनुराग का
Om Prakash Nautiyal
वो मूर्ति
वो मूर्ति
Kanchan Khanna
2579.पूर्णिका
2579.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दिल शीशे सा
दिल शीशे सा
Neeraj Agarwal
शिखर पर पहुंचेगा तू
शिखर पर पहुंचेगा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हरिगीतिका छंद
हरिगीतिका छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
प्यार भरी चांदनी रात
प्यार भरी चांदनी रात
नूरफातिमा खातून नूरी
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
💐Prodigy Love-35💐
💐Prodigy Love-35💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
धिक्कार
धिक्कार
Shekhar Chandra Mitra
*लक्ष्मीबाई वीरता, साहस का था नाम(कुंडलिया)*
*लक्ष्मीबाई वीरता, साहस का था नाम(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
# डॉ अरुण कुमार शास्त्री
# डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जब किसी कार्य के लिए कदम आगे बढ़ाने से पूर्व ही आप अपने पक्ष
जब किसी कार्य के लिए कदम आगे बढ़ाने से पूर्व ही आप अपने पक्ष
Paras Nath Jha
महाभारत एक अलग पहलू
महाभारत एक अलग पहलू
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"लेखनी"
Dr. Kishan tandon kranti
आब आहीं हमर गीत बनल छी ,रचना केँ श्रृंगार बनल छी, मिठगर बोली
आब आहीं हमर गीत बनल छी ,रचना केँ श्रृंगार बनल छी, मिठगर बोली
DrLakshman Jha Parimal
कुछ तेज हवाएं है, कुछ बर्फानी गलन!
कुछ तेज हवाएं है, कुछ बर्फानी गलन!
Bodhisatva kastooriya
#हास्यप्रद_जिज्ञासा
#हास्यप्रद_जिज्ञासा
*Author प्रणय प्रभात*
Asman se khab hmare the,
Asman se khab hmare the,
Sakshi Tripathi
ज़िंदगी मौत,पर
ज़िंदगी मौत,पर
Dr fauzia Naseem shad
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
Dr Tabassum Jahan
भीगे अरमाॅ॑ भीगी पलकें
भीगे अरमाॅ॑ भीगी पलकें
VINOD CHAUHAN
दोस्ती तेरी मेरी
दोस्ती तेरी मेरी
Surya Barman
कौन सोचता....
कौन सोचता....
डॉ.सीमा अग्रवाल
बेडी परतंत्रता की 🙏
बेडी परतंत्रता की 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
Awadhesh Kumar Singh
Loading...