Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2022 · 1 min read

“रक्षाबंधन पर्व”

रहे प्यार अक्षुण्ण,
बहन-भाई का सब दिन, जग मेँ।
स्नेह-सूत्र की याद दिलाने,
रक्षाबंधन आया।।

रहे ललाट, कभी ना सूना,
अभिलाषा, भगिनी की।
भ्रात्र-भाल पर तिलक लगाने,
रक्षाबंधन आया।।

बँधे कलाई पर राखी,
सिँवई की घर-घर धूम मचे।
पूड़ी सँग पकवान खिलाने,
रक्षाबंधन आया।।

रहे सुरक्षा बहनों की,
मन से सँशय, सँकोच मिटे।
श्रृद्धा अरु विश्वास जगाने,
रक्षाबंधन आया।।

बहा रक्त जब कृष्ण कलाई,
बँधा द्रौपदी का पल्लू।
सँस्कार, सद्भाव, सिखाने,
रक्षाबंधन आया।।

चीर हरण की जब नौबत थी,
वस्त्रोँ के अम्बार लगे।
रिश्ते की गरिमा समझाने,
रक्षाबंधन आया।।

भले व्यस्त, जीवन हो कितना,
किन्तु पर्व का ध्यान रहे।
घर-घर मेँ सौहार्द्र बढ़ाने,
रक्षाबंधन आया।।

विधि-विधान से हो पूजन,
“आशा” का प्रादुर्भाव रहे।
रोली-अक्षत, थाल सजाने,
रक्षाबंधन आया।।

मृदुल ज्योत्सना से अभिसिंचित,
गृह-उपवन हो सारा।
भीनी सी, सुगन्ध, फैलाने,
रक्षाबंधन आया..!

——//——//——-//——-//——-//——-

रचयिता-

Dr.asha kumar rastogi
M.D.(Medicine),DTCD
Ex.Senior Consultant Physician,district hospital, Moradabad.
Presently working as Consultant Physician and Cardiologist,sri Dwarika hospital,near sbi Muhamdi,dist Lakhimpur kheri U.P. 262804 M.9415559964

Language: Hindi
29 Likes · 42 Comments · 316 Views
You may also like:
कैसे कोई उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
माँ की यादें...
मनोज कर्ण
गुरु के अनेक रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
जर,जोरू और जमीन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बाल कहानी - सुन्दर संदेश
SHAMA PARVEEN
साजन तेरे गाँव का, पनघट इतना दूर
Dr Archana Gupta
एक दिया जलाये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इश्क़ नहीं हम
Varun Singh Gautam
✍️इश्क़ के बीमार✍️
'अशांत' शेखर
मैं निर्भया हूं
विशाल शुक्ल
"अगली राखी में आऊँगा"
Lohit Tamta
विचित्र प्राणी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
गीता की महत्ता
Pooja Singh
गुजरते हुए उस गली से
Kaur Surinder
मेरे करीब़ हो तुम
VINOD KUMAR CHAUHAN
सावन आया
HindiPoems ByVivek
मिसाल
Kanchan Khanna
मेरा कृष्णा
Rakesh Bahanwal
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
जुल्मतों का दौर
Shekhar Chandra Mitra
गुरु ईश्वर के रूप धरा पर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"खिलौने"
Dr Meenu Poonia
तेरा नसीब बना हूं।
Taj Mohammad
विद्यालय का गृहकार्य
Buddha Prakash
हौसला-1
डॉ. शिव लहरी
'हकीकत'
Godambari Negi
मोहब्बत मेरी थी
जय लगन कुमार हैप्पी
*दशहरे का मेला (बाल कविता)*
Ravi Prakash
नौकरी-चाकरी पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...