Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2022 · 3 min read

योग छंद विधान और विधाएँ

योग छंद ~ 20 मात्रिक – 12 – 8 , बारह मात्रा पर यति चौकल से ( चारों प्रकार ) व चरणांत 122 यगण से
यदि चरणांत दो दीर्घ के चौकल से हो रहा है तब अठकल के पहले चौकल की अंतिम मात्रा लघु हो , आशय यह है कि पदांत 122 यगण ही रहना चाहिए

योग छंद

सबसे पहले जानो , आज इशारा |
रहे सदा शुभ आगे , कर्म हमारा ||
दीन दुखी की सेवा , कभी न छोड़े |
उठे शत्रु की अँगुली , शीघ्र मरोड़े ||

कहलाती है मेरी , भारत माता |
जिनके चरणों में अब, शीष झुकाता ||
हर जन्मों में उनके , रहें पुजारी |
ईश्वर. इक्क्षा पूरण , करें हमारी ||

भारत माँ के बेटे , सदा अनूठे |
जमीदोज भी करते , जिस पर रूठे ||
विश्व पटल ने भी , है यह माना |
स्वाभिमान में आगे , भारत जाना ||

सुभाष सिंघई
~~~~~~~~~
मुक्तक ~योग छंद‌

योग छंद 12 – 8 , यति चौकल ,
पदांत 122 यगण
मुक्तक , ” पानी” पर

ग्रीष्म ताप को जब -जब, चढ़े जवानी |
बादल बनता है तब, आकर दानी |
धरती पर बन जाती , नई‌ कथा-सी~
लिखे प्रेम परिभाषा , बहकर पानी |

पानी चखकर बनती , पवन सुहानी |
पत्ते लहराकर कर , हँसें जुबानी |
शीतलता भी आए , झुककर बोले ~
मैं भी स्वागत करता , लखकर पानी |

अवनि बनी अम्बर की , प्रेम दिवानी |
कहती हमको अब तो , रीति निभानी |
तृप्त तभी हो पाऊँ , नेह रहेगा ~
बरसेगा जब अनुपम , अद्भुत पानी |

सुभाष सिंघई

पाकर सुंदर जीवन , कलह मचायें |
कष्ट जरा सा पाकर , ‌सब अकुलायें |
मद में आकर बोले , कहे हमारा ~
जब भी हारे प्रभु का, दोष बतायें |

आज आदमी दिखता , बड़ा सयाना |
बात घुमाने हर पल , रखे खजाना |
मजा सभी का लेता , बन हितकारी ~
नुस्खा नया नवेला , कहे पुराना |

नहीं छूटती आदत , कभी पुरानी |
जिसमें चुगली पहले , नम्बर मानी |
हजम तभी है खाना , जब कर लेता ~
इसकी देखी सबने , अजब कहानी |

सुभाष सिंघई
~~~~~~~~~~~~~
गीत ~ आधार योग छंद

आई गाँव हमारे , चलकर गोरी | मुखड़ा
हँसती मुस्काती -सी , चन्द्र चकोरी | टेक

लटें लगें नागिन सी , जो घुँघराले | अंतरा
नैन बिखेरे जादू , हैं मतवाले ||
सुंदरता की देवी , लगी तिजोरी |पूरक
हँसती मुस्काती-सी, चन्द्र चकोरी‌ ||टेक

करधौनी पर कहते , बोल हमारे | अंतरा
लता, पुष्प से लिपटी , करे इशारे ||
कोमल किसलय नादाँ ,है यह छोरी | पूरक
हँसती मुस्काती – सी , चन्द्र चकोरी ||टेक.

चमक रही है नथनी , आभ बिखेरे | मुखड़ा
घायल होते भँवरे , जिस. तट हेरे ||
नेह ‘ सुभाषा ‘ चाहत, बाँधत डोरी |,
हँसती मुस्काती – सी, चन्द्र चकोरी ||टेक.

सुभाष सिंघई
~~~~~ ~~~~~~~

अपदांत गीतिका ( आधार – योग छंद )
12 – 8 (यति चौकल , चरणांत 122 )

लोग चले है बनने , शूर सयाने
चर्म शेर की ओढ़ें, लगे बनाने ||

कागा गाता लेकर , हाथ मजीरा ,
ताल मिलाती कोयल , सुनकर गाने |

देख रहे‌ सब मंजर , बोल न फूटें ,
साँप बिलों से आए , अब लहराने |

चली हवा है कैसी , तनकर झूठे ,
लगे सत्य को सम्मुख ,अब धमकाने |

कौन यहाँ पर आया , लेकर झंडा‌ ,
दिखा- दिखाकर सबको , लगा खिजाने |

सुभाष सिंघई
~~~~~~~

योग छंद , गातिका ,
समांत अत , पदांत माता

नेता कैसा रखते , चाहत नाता |
पीड़ा सहती जाती‌ , भारत माता |

कसम तिरंगा खाते , देश. बेंचते ,
देख रही है अपनी ,दुर्गत‌ माता |

अवसर पर जनता की , खाल खेंचते ,
देख रही चोरों का , बहुमत माता |

चोर- चोर मौसोरे , बनकर भाई ,
उनको देख रही सौ , प्रतिशत माता |

अन्न उगाते जो भी , घुटकर मरते ,
लिखकर अब किसको , दे खत माता |

सुभाष सिंघई
~~~~~~
आलेख ~ #सुभाष_सिंघई , एम. ए. हिंदी साहित्य , दर्शन शास्त्र , निवासी जतारा ( टीकमगढ़ ) म० प्र०

Language: Hindi
746 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं जवान हो गई
मैं जवान हो गई
Basant Bhagawan Roy
लहजा
लहजा
Naushaba Suriya
Y
Y
Rituraj shivem verma
धर्म बनाम धर्मान्ध
धर्म बनाम धर्मान्ध
Ramswaroop Dinkar
#प्रणय_गीत-
#प्रणय_गीत-
*प्रणय प्रभात*
🥀✍ *अज्ञानी की*🥀
🥀✍ *अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"ऐ मेरे दोस्त"
Dr. Kishan tandon kranti
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"साहित्यकार और पत्रकार दोनों समाज का आइना होते है हर परिस्थि
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
सोने का हिरण
सोने का हिरण
Shweta Soni
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
दोस्तों अगर किसी का दर्द देखकर आपकी आत्मा तिलमिला रही है, तो
दोस्तों अगर किसी का दर्द देखकर आपकी आत्मा तिलमिला रही है, तो
Sunil Maheshwari
लगे रहो भक्ति में बाबा श्याम बुलाएंगे【Bhajan】
लगे रहो भक्ति में बाबा श्याम बुलाएंगे【Bhajan】
Khaimsingh Saini
दवा दारू में उनने, जमकर भ्रष्टाचार किया
दवा दारू में उनने, जमकर भ्रष्टाचार किया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अंततः कब तक ?
अंततः कब तक ?
Dr. Upasana Pandey
"दो हजार के नोट की व्यथा"
Radhakishan R. Mundhra
कविता: घर घर तिरंगा हो।
कविता: घर घर तिरंगा हो।
Rajesh Kumar Arjun
आपसे होगा नहीं , मुझसे छोड़ा नहीं जाएगा
आपसे होगा नहीं , मुझसे छोड़ा नहीं जाएगा
Keshav kishor Kumar
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
Jyoti Khari
भतीजी (लाड़ो)
भतीजी (लाड़ो)
Kanchan Alok Malu
खींचातानी  कर   रहे, सारे  नेता लोग
खींचातानी कर रहे, सारे नेता लोग
Dr Archana Gupta
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
सब अपने नसीबों का
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
gurudeenverma198
मुसलसल ईमान रख
मुसलसल ईमान रख
Bodhisatva kastooriya
मैं तो महज आग हूँ
मैं तो महज आग हूँ
VINOD CHAUHAN
शिकवा नहीं मुझे किसी से
शिकवा नहीं मुझे किसी से
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
वृक्षों की भरमार करो
वृक्षों की भरमार करो
Ritu Asooja
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
24/228. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/228. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...