Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2023 · 1 min read

योगा डे सेलिब्रेशन

योगा डे सेलिब्रेशन

“प्रेमा, जल्दी से चार-पाँच लोगों के लिए बढ़िया-सा नास्ता-पानी का बंदोबस्त कर लो।” विधायक रमेश जी ने अपनी पत्नी से कहा।
“चार-पाँच लोगों के लिए ? क्यों ? किनके लिए ? कोई मेहमान आने वाले हैं क्या ?” उनकी धर्मपत्नी प्रेमा ने पूछा।
“अरे नहीं यार, योगा डे के सिलसिले में मैंने कई लोगों को बुलाया है। वे लोग शाम के पाँच बजे तक आ जाएँगे।”
“पर योगा डे तो कल है न ? अभी से क्यों बुला लिए ?”
“अरे यार, तू तो कुछ समझती ही नहीं। तुम्हें तो पता ही है कि 11 बजे से पहले मेरी नींद खुलती नहीं। कल सभी योगा करेंगे, तो हम भला पीछे क्यों रहें ?”
“तो … ये लोग आज क्या करने के लिए आ रहे हैं ?”
“बहुत भोली हो तुम प्रेमा। कल सोशल मीडिया में सब लोग अपनी-अपनी योगा करते हुए पोस्ट डालेंगे। अखबारों में फोटो के साथ खबरें भी छपेंगी।”
“तो…” प्रेमा आश्चर्य से पूछी।
“तो क्या, मैंने सेविंग करा लिया है। योगा के लिए मैट और ड्रेस लाने के लिए अपने पी.ए. को भेज दिया है। मेकअप आर्टिस्ट और फोटोग्राफर पाँच बजे तक आएँगे। फोटो शूट आज ही करा लूँगा। हमारी पी.ए. सुबह ठीक सात बजे सोशल मीडिया में फोटो पोस्ट कर देगी। सबको पहले से ही समझा दिया है कि हमारी नींद खुलते तक फ्रैंड्स और पार्टी कार्यकर्ताओं के पाँच हजार लाइक्स तो होने ही चाहिए।” विधायक महोदय ने समझाया।
“वाह ! कितने दूरदर्शी हैं आप। मैं अभी व्यवस्था करती हूं।” प्रेमा तैयारी में जुट गई।
-डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
साधना
साधना
Vandna Thakur
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन का सम्बल
जीवन का सम्बल
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
Pakhi Jain
यहाँ प्रयाग न गंगासागर,
यहाँ प्रयाग न गंगासागर,
Anil chobisa
भरत मिलाप
भरत मिलाप
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
2122/2122/212
2122/2122/212
सत्य कुमार प्रेमी
जो विष को पीना जाने
जो विष को पीना जाने
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ये तो मुहब्बत में
ये तो मुहब्बत में
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
छोटी-सी मदद
छोटी-सी मदद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
Atul "Krishn"
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Sakshi Tripathi
बृद्धाश्रम विचार गलत नहीं है, यदि संस्कृति और वंश को विकसित
बृद्धाश्रम विचार गलत नहीं है, यदि संस्कृति और वंश को विकसित
Sanjay ' शून्य'
गर्मी की मार
गर्मी की मार
Dr.Pratibha Prakash
कलियों सा तुम्हारा यौवन खिला है।
कलियों सा तुम्हारा यौवन खिला है।
Rj Anand Prajapati
आरजू
आरजू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक समझदार मां रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए प्रकृति के
एक समझदार मां रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए प्रकृति के
Dheerja Sharma
जीवन सुंदर गात
जीवन सुंदर गात
Kaushlendra Singh Lodhi Kaushal
हमारे तो पूजनीय भीमराव है
हमारे तो पूजनीय भीमराव है
gurudeenverma198
माँ की यादें
माँ की यादें
मनोज कर्ण
मैं तेरा श्याम बन जाऊं
मैं तेरा श्याम बन जाऊं
Devesh Bharadwaj
#मुक्तक
#मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
हीरक जयंती 
हीरक जयंती 
Punam Pande
बीज अंकुरित अवश्य होगा (सत्य की खोज)
बीज अंकुरित अवश्य होगा (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
"क्या मझदार क्या किनारा"
Dr. Kishan tandon kranti
"वृद्धाश्रम"
Radhakishan R. Mundhra
भूलकर चांद को
भूलकर चांद को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*जानो कीमत वोट की, करो सभी मतदान (कुंडलिया)*
*जानो कीमत वोट की, करो सभी मतदान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जमात
जमात
AJAY AMITABH SUMAN
वीर रस की कविता (दुर्मिल सवैया)
वीर रस की कविता (दुर्मिल सवैया)
नाथ सोनांचली
Loading...