Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2023 · 1 min read

ये मन तुझसे गुजारिश है, मत कर किसी को याद इतना

ये मन तुझसे गुजारिश है, मत कर किसी को याद इतना
याद तू करता है दर्द दिल को होता है
ज़ख्म भी दिल पे लगते हैं,और अशर पूरे जिस्म पे होता है
ये मन तुझसे गुजारिश है, की मत कर याद किसी को इतना
क्योंकि उसे अब मेरी परवाह नहीं
याद तू करेगा,और तड़पेगा ये दिल
तू जिसे याद करता रहता है
उसे क्या पता, की ये दिल उसके याद में तड़प तड़प के
अपना क्या हाल किए जा रहा, तू संभाल अपने आपको
तेरा ये जुल्म अब बर्दाश्त नहीं होता
माना कि गलती मेरे दिल की थी
लेकिन इसकी सजा ये तो मत दे
ये मन तू मत कर याद , किसी को इतना की
फिर ये दिल इतना टूट जाए कि
किसी अपने पे भी विश्वास न कर पाएं,मत दे इतनी सजा की
रातों की नीद चली जाएं,और आंशुओ से लिपट जाए ये राते
ये मन मत कर, तू याद किसी को इतना
अब नहीं कर पाते है,पूरी रात रोके , सुबह ये मुस्कराते हुऐ
चेहरे का दिखावा
अब तक चुके हैं ,एसी जिंदगी से
मत कर ये मन, तू याद किसी को इतना
अब नहीं फर्क पड़ता उसे
मेरे होने या ना होने का
@सुधा

Language: Hindi
Tag: Poem
1 Like · 513 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3) मैं किताब हूँ
3) मैं किताब हूँ
पूनम झा 'प्रथमा'
14. आवारा
14. आवारा
Rajeev Dutta
** पहचान से पहले **
** पहचान से पहले **
surenderpal vaidya
Good morning 🌅🌄
Good morning 🌅🌄
Sanjay ' शून्य'
आरती करुँ विनायक की
आरती करुँ विनायक की
gurudeenverma198
पिता के प्रति श्रद्धा- सुमन
पिता के प्रति श्रद्धा- सुमन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
*करिए गर्मी में सदा, गन्ने का रस-पान (कुंडलिया)*
*करिए गर्मी में सदा, गन्ने का रस-पान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वक्त, बेवक्त मैं अक्सर तुम्हारे ख्यालों में रहता हूं
वक्त, बेवक्त मैं अक्सर तुम्हारे ख्यालों में रहता हूं
Nilesh Premyogi
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
गैरों से जायदा इंसान ,
गैरों से जायदा इंसान ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
बेपरवाह
बेपरवाह
Omee Bhargava
बड़ी दूर तक याद आते हैं,
बड़ी दूर तक याद आते हैं,
शेखर सिंह
रूठकर के खुदसे
रूठकर के खुदसे
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
says wrong to wrong
says wrong to wrong
Satish Srijan
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
गोंडवाना गोटूल
गोंडवाना गोटूल
GOVIND UIKEY
जय श्रीकृष्ण -चंद दोहे
जय श्रीकृष्ण -चंद दोहे
Om Prakash Nautiyal
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
Subhash Singhai
तुम हो कौन ? समझ इसे
तुम हो कौन ? समझ इसे
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हक़ीक़त
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
As gulmohar I bloom
As gulmohar I bloom
Monika Arora
"कभी-कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रकट भये दीन दयाला
प्रकट भये दीन दयाला
Bodhisatva kastooriya
पिया की प्रतीक्षा में जगती रही
पिया की प्रतीक्षा में जगती रही
Ram Krishan Rastogi
मोहब्बत मुकम्मल हो ये ज़रूरी तो नहीं...!!!!
मोहब्बत मुकम्मल हो ये ज़रूरी तो नहीं...!!!!
Jyoti Khari
खेल खिलाड़ी
खेल खिलाड़ी
Mahender Singh
श्रीमान - श्रीमती
श्रीमान - श्रीमती
Kanchan Khanna
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
Johnny Ahmed 'क़ैस'
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा
फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Loading...