Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2018 · 1 min read

ये बेटियाँ

कविता – ये बेटियाँ

पावन मूरत, सुहानी सूरत , तेजोमय आभा है ,
प्रकाश – पुंज सी उज्ज्वलता , माँ गंगा की धारा है ,
माँ की ममता है इसमें , माँ का पावन रूप है ,
सूरज की लाली सी जगमग, सुन्दर रूप अनूप है ।
ये बेटियाँ , ये बेटियाँ – ये बेटियाँ, ये बेटियाँ ।।

नित – नूतन मंगल ही मंगल, लक्ष्मी का निवास है ,
व्रत, उपवास, त्यौहार, अमावस, दीप – ज्योति की उजास है,
तरू – पल्लव सी छटा निराली, वट – पीपल की छाव है ,
अँगना की क्यारी में तुलसी , सहज,सरल मनोभाव है।
ये बेटियाँ , ये बेटियाँ , ये बेटियाँ, ये बेटियाँ ।।

बेटी के स्वर गूँजते ऐसे , बजती जैसे कान्हा की मुरली ,
कर्ण – प्रिय धुन मधुर सुनावे, गुनगुन जैसे पुष्पों पे अलि ।
मधुवन सा सुंदर उसका मन, सावन सी घटा है ,
वर्षा -ऋतु सी हरियाली , ऋतुराज सी छटा है ।
ये बेटियाँ , ये बेटियाँ , ये बेटियाँ , ये बेटियाँ ।।

पिता की मुस्कान मनोहर , माँ की ममता और तमन्ना ,
भ्रात – भगिनी का प्रेम अमोलक, दादा – दादी की अलका ।
मामा – मामी की लाड़ली भांजी , नाना – नानी की तारा,
अपने प्रीतम की वो राधा , सास – ससुर की सहारा ।।
ये बेटियाँ, ये बेटियाँ , ये बेटियाँ , ये बेटियाँ ।।

कवि – सुनील नागर
7509927838

Language: Hindi
Tag: गीत
425 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्मृतियाँ
स्मृतियाँ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
कौन किसके सहारे कहाँ जीता है
कौन किसके सहारे कहाँ जीता है
VINOD CHAUHAN
चुभते शूल.......
चुभते शूल.......
Kavita Chouhan
झूठ
झूठ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दो पाटन की चक्की
दो पाटन की चक्की
Harminder Kaur
गुनाहों के देवता तो हो सकते हैं
गुनाहों के देवता तो हो सकते हैं
Dheeru bhai berang
The Journey of this heartbeat.
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बनें सब आत्मनिर्भर तो, नहीं कोई कमी होगी।
बनें सब आत्मनिर्भर तो, नहीं कोई कमी होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
माँ की करते हम भक्ति,  माँ कि शक्ति अपार
माँ की करते हम भक्ति, माँ कि शक्ति अपार
Anil chobisa
2964.*पूर्णिका*
2964.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी तुझ में जान है,
मेरी तुझ में जान है,
sushil sarna
*घर*
*घर*
Dushyant Kumar
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
"आशा"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम मुझे सुनाओ अपनी कहानी
तुम मुझे सुनाओ अपनी कहानी
Sonam Puneet Dubey
गर्मी
गर्मी
Ranjeet kumar patre
बड़ा ही अजीब है
बड़ा ही अजीब है
Atul "Krishn"
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
The_dk_poetry
सुबह-सुबह की बात है
सुबह-सुबह की बात है
Neeraj Agarwal
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
कवि रमेशराज
*खादिम*
*खादिम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ देश भर के जनाक्रोश को शब्द देने का प्रयास।
■ देश भर के जनाक्रोश को शब्द देने का प्रयास।
*प्रणय प्रभात*
*हमें कर्तव्य के पथ पर, बढ़ाती कृष्ण की गीता (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*हमें कर्तव्य के पथ पर, बढ़ाती कृष्ण की गीता (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
हुनर मौहब्बत के जिंदगी को सीखा गया कोई।
हुनर मौहब्बत के जिंदगी को सीखा गया कोई।
Phool gufran
साइस और संस्कृति
साइस और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
सब कुछ हमे पता है, हमे नसियत ना दीजिए
सब कुछ हमे पता है, हमे नसियत ना दीजिए
पूर्वार्थ
हमारा सफ़र
हमारा सफ़र
Manju sagar
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
Loading...