Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Oct 2023 · 1 min read

ये जो लोग दावे करते हैं न

ये जो लोग दावे करते हैं न
कि वो दूसरों को बहुत अच्छे से समझते हैं ,उनके बारे में हर एक बात जानते हैं ,वो कब क्या करेगा/करेगी सब अच्छे से पता है
ये एकदम खोखले दावे हैं …
आप किसी को नही समझ सकते,क्योंकि आपने अभी तक खुद को ही नही समझा है,हां उसकी आदतों उसके व्यवहार उसके तौर तरीकों से आप अनुमान लगा सकते हैं ,पर ये सिर्फ अनुमान है और ये अनुमान गलत भी हो सकते हैं।।

Ruby

1 Like · 283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
Dr MusafiR BaithA
💐प्रेम कौतुक-289💐
💐प्रेम कौतुक-289💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कार्ल मार्क्स
कार्ल मार्क्स
Shekhar Chandra Mitra
अंत समय
अंत समय
Vandna thakur
झूठ न इतना बोलिए
झूठ न इतना बोलिए
Paras Nath Jha
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
चूहा और बिल्ली
चूहा और बिल्ली
Kanchan Khanna
मुस्कुराने लगे है
मुस्कुराने लगे है
Paras Mishra
दोस्त
दोस्त
Neeraj Agarwal
बचपन खो गया....
बचपन खो गया....
Ashish shukla
इंसान से हिंदू मैं हुआ,
इंसान से हिंदू मैं हुआ,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मच्छर
मच्छर
लक्ष्मी सिंह
है कौन झांक रहा खिड़की की ओट से
है कौन झांक रहा खिड़की की ओट से
Amit Pathak
"Battling Inner Demons"
Manisha Manjari
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उतर के आया चेहरे का नकाब उसका,
उतर के आया चेहरे का नकाब उसका,
कवि दीपक बवेजा
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
manjula chauhan
ज़ईफ़ी में ग़रचे दिमाग़ी तवाज़ुन, सलामत रहे तो समझ लीजिएगा।
ज़ईफ़ी में ग़रचे दिमाग़ी तवाज़ुन, सलामत रहे तो समझ लीजिएगा।
*Author प्रणय प्रभात*
23/157.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/157.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दशावतार
दशावतार
Shashi kala vyas
मेहनत
मेहनत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
shabina. Naaz
आज की नारी
आज की नारी
Shriyansh Gupta
बुलंदियों पर पहुंचाएगा इकदिन मेरा हुनर मुझे,
बुलंदियों पर पहुंचाएगा इकदिन मेरा हुनर मुझे,
प्रदीप कुमार गुप्ता
जहां से चले थे वहीं आ गए !
जहां से चले थे वहीं आ गए !
Kuldeep mishra (KD)
हर मुश्किल फिर आसां होगी।
हर मुश्किल फिर आसां होगी।
Taj Mohammad
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
Take responsibility
Take responsibility
पूर्वार्थ
थैला (लघु कथा)
थैला (लघु कथा)
Ravi Prakash
आप प्रारब्ध वश आपको रावण और बाली जैसे पिता और बड़े भाई मिले
आप प्रारब्ध वश आपको रावण और बाली जैसे पिता और बड़े भाई मिले
Sanjay ' शून्य'
Loading...