Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2022 · 1 min read

ये जरूरी नहीं।

यहां हर किसी का अपना एक जुदा ख्याल होता है।
ये कोई जरूरी नहीं है कि तुम मेरी हर बात ही मानो।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 215 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
#विजय_के_23_साल
#विजय_के_23_साल
*प्रणय प्रभात*
3027.*पूर्णिका*
3027.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*नाम है इनका, राजीव तरारा*
*नाम है इनका, राजीव तरारा*
Dushyant Kumar
((((((  (धूप ठंढी मे मुझे बहुत पसंद है))))))))
(((((( (धूप ठंढी मे मुझे बहुत पसंद है))))))))
Rituraj shivem verma
!! ये सच है कि !!
!! ये सच है कि !!
Chunnu Lal Gupta
हाँ, नहीं आऊंगा अब कभी
हाँ, नहीं आऊंगा अब कभी
gurudeenverma198
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
The_dk_poetry
उसका आना
उसका आना
हिमांशु Kulshrestha
मंगल दीप जलाओ रे
मंगल दीप जलाओ रे
नेताम आर सी
*नल से जल की योजना, फैले इतनी दूर (कुंडलिया)*
*नल से जल की योजना, फैले इतनी दूर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"नाना पाटेकर का डायलॉग सच होता दिख रहा है"
शेखर सिंह
वही पर्याप्त है
वही पर्याप्त है
Satish Srijan
"संकल्प"
Dr. Kishan tandon kranti
!!! नानी जी !!!
!!! नानी जी !!!
जगदीश लववंशी
पूर्ण-अपूर्ण
पूर्ण-अपूर्ण
Srishty Bansal
Don't Be Judgemental...!!
Don't Be Judgemental...!!
Ravi Betulwala
मेरी फितरत
मेरी फितरत
Ram Krishan Rastogi
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि के साहित्य से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि के साहित्य से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें।
Dr. Narendra Valmiki
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
-आगे ही है बढ़ना
-आगे ही है बढ़ना
Seema gupta,Alwar
.
.
Ragini Kumari
कुछ ऐसे भी लोग कमाए हैं मैंने ,
कुछ ऐसे भी लोग कमाए हैं मैंने ,
Ashish Morya
कोई फैसला खुद के लिए, खुद से तो करना होगा,
कोई फैसला खुद के लिए, खुद से तो करना होगा,
Anand Kumar
विधा:
विधा:"चन्द्रकान्ता वर्णवृत्त" मापनी:212-212-2 22-112-122
rekha mohan
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Santosh kumar Miri
कौशल कविता का - कविता
कौशल कविता का - कविता
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
गंणपति
गंणपति
Anil chobisa
.......... मैं चुप हूं......
.......... मैं चुप हूं......
Naushaba Suriya
दिल में एहसास
दिल में एहसास
Dr fauzia Naseem shad
Loading...