Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Oct 2023 · 1 min read

प्रेम की कहानी

ये इश्क मोहब्बत की तो बातें ही बेमानी हैं,
ये कृष्ण की धरती है यहां प्रेम की बानी है,
जो फैल जाए जंगल में इश्क ही हो सकता है,
राम की धरती पर प्रेम की अलग कहानी है।

संजय श्रीवास्तव
29 अक्टूबर 2023

231 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from इंजी. संजय श्रीवास्तव
View all
You may also like:
कान्हा
कान्हा
Mamta Rani
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
Anil Mishra Prahari
कैसे गाएँ गीत मल्हार
कैसे गाएँ गीत मल्हार
संजय कुमार संजू
मन
मन
Dr.Priya Soni Khare
प्यार
प्यार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बुंदेली दोहा-नदारौ
बुंदेली दोहा-नदारौ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रीत प्रेम की
प्रीत प्रेम की
Monika Yadav (Rachina)
दो शे'र - चार मिसरे
दो शे'र - चार मिसरे
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
हिन्दी ग़ज़़लकारों की अंधी रति + रमेशराज
हिन्दी ग़ज़़लकारों की अंधी रति + रमेशराज
कवि रमेशराज
""बहुत दिनों से दूर थे तुमसे _
Rajesh vyas
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
जिन्दगी का मामला।
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
गले लगा लेना
गले लगा लेना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
आँखें बतलातीं सदा ,मन की सच्ची बात ( कुंडलिया )
आँखें बतलातीं सदा ,मन की सच्ची बात ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
2773. *पूर्णिका*
2773. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज का दिन
आज का दिन
Punam Pande
दुख
दुख
Rekha Drolia
हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार
हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार
Ankita Patel
👌बोगस न्यूज़👌
👌बोगस न्यूज़👌
*Author प्रणय प्रभात*
अपनी कद्र
अपनी कद्र
Paras Nath Jha
आँखे हैं दो लेकिन नज़र एक ही आता है
आँखे हैं दो लेकिन नज़र एक ही आता है
शेखर सिंह
हर ज़ख्म हमने पाया गुलाब के जैसा,
हर ज़ख्म हमने पाया गुलाब के जैसा,
लवकुश यादव "अज़ल"
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
Anand Kumar
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
Manisha Manjari
कैसे हो हम शामिल, तुम्हारी महफ़िल में
कैसे हो हम शामिल, तुम्हारी महफ़िल में
gurudeenverma198
"दीया और तूफान"
Dr. Kishan tandon kranti
गज़ले
गज़ले
Dr fauzia Naseem shad
तुम न समझ पाओगे .....
तुम न समझ पाओगे .....
sushil sarna
8--🌸और फिर 🌸
8--🌸और फिर 🌸
Mahima shukla
वो मेरे दिल के एहसास अब समझता नहीं है।
वो मेरे दिल के एहसास अब समझता नहीं है।
Faiza Tasleem
Loading...