Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2023 · 1 min read

ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही

ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से,

पता नही इन आँखों पर क्या जादू हो गया है…

229 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राजा यह फल का हुआ, कहलाता है आम (कुंडलिया)
राजा यह फल का हुआ, कहलाता है आम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
" नई चढ़ाई चढ़ना है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
आज सभी अपने लगें,
आज सभी अपने लगें,
sushil sarna
जाने कितने ख़त
जाने कितने ख़त
Ranjana Verma
पालनहार
पालनहार
Buddha Prakash
....नया मोड़
....नया मोड़
Naushaba Suriya
2862.*पूर्णिका*
2862.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
डिग्रियां तो मात्र आपके शैक्षिक खर्चों की रसीद मात्र हैं ,
डिग्रियां तो मात्र आपके शैक्षिक खर्चों की रसीद मात्र हैं ,
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
बिन मांगे ही खुदा ने भरपूर दिया है
बिन मांगे ही खुदा ने भरपूर दिया है
हरवंश हृदय
हे आदमी, क्यों समझदार होकर भी, नासमझी कर रहे हो?
हे आदमी, क्यों समझदार होकर भी, नासमझी कर रहे हो?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वक्त नहीं है
वक्त नहीं है
VINOD CHAUHAN
फिर से अरमान कोई क़त्ल हुआ है मेरा
फिर से अरमान कोई क़त्ल हुआ है मेरा
Anis Shah
मौत से किसकी यारी
मौत से किसकी यारी
Satish Srijan
कोहिनूराँचल
कोहिनूराँचल
डिजेन्द्र कुर्रे
तुमसे इश्क करके हमने
तुमसे इश्क करके हमने
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जलियांवाला बाग,
जलियांवाला बाग,
अनूप अम्बर
साधना से सिद्धि.....
साधना से सिद्धि.....
Santosh Soni
होली पर
होली पर
Dr.Pratibha Prakash
जीवन एक संघर्ष
जीवन एक संघर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
विश्व जल दिवस
विश्व जल दिवस
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िंदगी का सवाल रहता है
ज़िंदगी का सवाल रहता है
Dr fauzia Naseem shad
*लोकमैथिली_हाइकु*
*लोकमैथिली_हाइकु*
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तेरा मेरा.....एक मोह
तेरा मेरा.....एक मोह
Neeraj Agarwal
■ आज की सीख...
■ आज की सीख...
*Author प्रणय प्रभात*
इज़हार ए मोहब्बत
इज़हार ए मोहब्बत
Surinder blackpen
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
तुम्हें भूल नहीं सकता कभी
तुम्हें भूल नहीं सकता कभी
gurudeenverma198
मेरे ख्याल से जीवन से ऊब जाना भी अच्छी बात है,
मेरे ख्याल से जीवन से ऊब जाना भी अच्छी बात है,
पूर्वार्थ
हे मेरे प्रिय मित्र
हे मेरे प्रिय मित्र
कृष्णकांत गुर्जर
बुश का बुर्का
बुश का बुर्का
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
Loading...