Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2023 · 1 min read

यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!

✍️सभी चिकित्सकों को समर्पित __
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/ भगवान!
अपनी रातों की नींद छोड़
दूसरों के ख्वाब सजाते हैं
भूख प्यास सब छोड़
सेहत दरकिनार कर जाते हैं
किसी रोगी के भाई, पुत्र सम
तो कभी लावारिस के, वारिस बन
उपचार कराते हैं
तब कहीं चिकित्सक … 🌹
सब के दर्द की दवा बनते
अपना दर्द छुपाते हैं
अपने को रखते तटस्थ मोड पर
मां पिता भाई बहन मित्र
सारे रिश्ते निभाने की
भाग दौड़ में (पति_पत्नि)
आपसी संवाद भी कहां कर पाते हैं।
तब कहीं चिकित्सक … 🌹
अभी अभी नव गर्भवती को
बेड रेस्ट की सलाह देकर आई है
आज फिर भूल गई, खुद गोली
अपने तीन महीने की प्रेग्नेंसी भी
कहां एन्जॉय कर पाई है
अपने हाथों नन्ही परी को
जन्मा देख सुकून पाते हैं
तब कहीं चिकित्सक … 🌹
सभी को देते सलाह
और काउंसलिंग करते
हॉस्पिटल आने की जल्दी में
अपने बच्चे को, दूध की तो छोड़ो
गले भी नहीं लगा पाते हैं
फोन पर ही पूछा हाल,किए कुछ वादे
अपना अपराध बोध मिटाते हैं।
तब कहीं चिकित्सक … 🌹
कोरोना वायरस के डर से
सब बुरी तरह घबरा गए
किया कईयों ने बुरा बर्ताव
थूका, फेंकी गंदगी
फिर भी सेवा को डटे रहे
परिजनों से मिलने,महीनों घर नहीं जा पाते हैं
तब कहीं चिकित्सक …🌹
सभी चिकित्सको को हार्दिक आभार!बधाई!।
__ मनु वाशिष्ठ

155 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manu Vashistha
View all
You may also like:
प्यासा के कुंडलियां (झूठा)
प्यासा के कुंडलियां (झूठा)
Vijay kumar Pandey
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लिखें और लोगों से जुड़ना सीखें
लिखें और लोगों से जुड़ना सीखें
DrLakshman Jha Parimal
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
Shashi kala vyas
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
फादर्स डे ( Father's Day )
फादर्स डे ( Father's Day )
Atul "Krishn"
2592.पूर्णिका
2592.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
गुप्तरत्न
जय श्री राम
जय श्री राम
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कहीं  पानी  ने  क़हर  ढाया......
कहीं पानी ने क़हर ढाया......
shabina. Naaz
तसव्वुर
तसव्वुर
Shyam Sundar Subramanian
*वरद हस्त सिर पर धरो*..सरस्वती वंदना
*वरद हस्त सिर पर धरो*..सरस्वती वंदना
Poonam Matia
" नम पलकों की कोर "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
यूं ही कह दिया
यूं ही कह दिया
Koमल कुmari
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
surenderpal vaidya
सामाजिक मुद्दों पर आपकी पीड़ा में वृद्धि हुई है, सोशल मीडिया
सामाजिक मुद्दों पर आपकी पीड़ा में वृद्धि हुई है, सोशल मीडिया
Sanjay ' शून्य'
हर मसाइल का हल
हर मसाइल का हल
Dr fauzia Naseem shad
*बिटिया रानी पढ़ने जाती {बाल कविता}* ■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
*बिटिया रानी पढ़ने जाती {बाल कविता}* ■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
Ravi Prakash
🌸प्रकृति 🌸
🌸प्रकृति 🌸
Mahima shukla
"चार पैरों वाला मेरा यार"
Lohit Tamta
🙅झाड़ू वाली भाभी🙅
🙅झाड़ू वाली भाभी🙅
*प्रणय प्रभात*
संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ
संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ
SPK Sachin Lodhi
भारत के लाल को भारत रत्न
भारत के लाल को भारत रत्न
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोशिश
कोशिश
विजय कुमार अग्रवाल
कोरोना का आतंक
कोरोना का आतंक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" प्यार के रंग" (मुक्तक छंद काव्य)
Pushpraj Anant
झील बनो
झील बनो
Dr. Kishan tandon kranti
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
Kishore Nigam
जरुरी नहीं कि
जरुरी नहीं कि
Sangeeta Beniwal
Loading...