Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2016 · 1 min read

यूं न ठुकरा माँ……….

गीत

यूँ न ठुकरा मुझे, मत तिरस्कार कर,
एक मूरत हूँ मैं अनघढ़ी रह गई|
मुझको पढ़ मेरी माँ मैं हूं ऐसी ग़ज़ल,
जो लिखी तो गई बिन पढ़ी रह गई|

कोख में जब रखा मैंने पहला कदम,
मेरी आँखों में सपने मचलने लगे|
गाज तो तब गिरी जब ये मैंने सुना,
बागबाँ खुद कली को मसलने लगे|
रूह तो उड़ चली जाने किस देश में,
देह निष्प्राण मेरी पड़ी रह गई|

तेरे बेटे के हाथों की राखी थी मैं,
अपने हाथों से खुद तुने तोड़ा मुझे|
अपने भैय्या का नन्हा खिलौना थी मैं,
तोड़कर फिर कहीं का न छोड़ा मुझे|
लग के बाबुल के काँधे से होती विदा,
बिन कहारों के डोली खड़ी रह गई|

मेरी क्या थी खता मुझको इतना बता,
क्या हुआ तेरे अंगना कली खिल गई?
देगी आँचल मुझे या कि देगी कफ़न,
क्या करेगी दोबारा जो मैं मिल गई|
सब ये कहते हैं ममता की मूरत है माँ,
चाह बेटे की मुझसे बड़ी रह गई|

-आर. सी. शर्मा “आरसी”

Language: Hindi
Tag: गीत
252 Views
You may also like:
अतीत का अफसोस क्या करना।
पीयूष धामी
बग़ावत
Shyam Sundar Subramanian
मेरे जैसा ये कौन है
Dr fauzia Naseem shad
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आदि शक्ति
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
" सरोज "
Dr Meenu Poonia
सजल : तिरंगा भारत का
Sushila Joshi
इंतजार करो में आऊंगा (इंतजार करो गहलोत जरूर आएगा,)
bharat gehlot
सुखला से सावन के आहत किसान बा।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हम दिल से ना हंसे हैं।
Taj Mohammad
Colourful Balloons
Buddha Prakash
एक शायर अपनी महबूबा से
Shekhar Chandra Mitra
खुदा से एक सिफारिश लगवाऊंगा
कवि दीपक बवेजा
◆संसारस्य संयोगः अनित्यं च वियोगः नित्य च ◆
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुझे मेरे गाँव पहुंचा देना
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
बस एक ही भूख
DESH RAJ
अंधे का बेटा अंधा
AJAY AMITABH SUMAN
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
पिता
Dr.Priya Soni Khare
भगवान सा इंसान को दिल में सजा के देख।
सत्य कुमार प्रेमी
चढ़ती उम्र
rkchaudhary2012
*द्वितीय आ जाती है (गीतिका)*
Ravi Prakash
बाल कविता दुश्मन को कभी मित्र न मानो
Ram Krishan Rastogi
मूक प्रेम
Rashmi Sanjay
✍️कुछ बाते…
'अशांत' शेखर
परिस्थिति
AMRESH KUMAR VERMA
देखिए भी किस कदर हालात मेरे शहर में।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जबकि तुम अक्सर
gurudeenverma198
"जया-रवि किशन" दोहे संवाद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सोचता हूं कैसे भूल पाऊं तुझे
Er.Navaneet R Shandily
Loading...