Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jan 2024 · 1 min read

याद है पास बिठा के कुछ बाते बताई थी तुम्हे

याद है पास बिठा के कुछ बाते बताई थी तुम्हे
एक रोज एक रिंग पहनाई थी तुम्हे
वो दिन बड़े छोटे थे, बड़ी जल्दी गुजर गए
फिर वक्त आते आते तुम खुद ही मुकर गए।
Lalit

1 Like · 146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
!! वो बचपन !!
!! वो बचपन !!
Akash Yadav
निरीह गौरया
निरीह गौरया
Dr.Pratibha Prakash
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
The_dk_poetry
आईने में अगर
आईने में अगर
Dr fauzia Naseem shad
जीवन जीते रहने के लिए है,
जीवन जीते रहने के लिए है,
Prof Neelam Sangwan
A Picture Taken Long Ago!
A Picture Taken Long Ago!
R. H. SRIDEVI
सपनों का अन्त
सपनों का अन्त
Dr. Kishan tandon kranti
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
SPK Sachin Lodhi
-0 सुविचार 0-
-0 सुविचार 0-
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ये दूरियां सिर्फ मैंने कहाँ बनायी थी //
ये दूरियां सिर्फ मैंने कहाँ बनायी थी //
गुप्तरत्न
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आदर्श
आदर्श
Bodhisatva kastooriya
खेल जगत का सूर्य
खेल जगत का सूर्य
आकाश महेशपुरी
तू भूल जा उसको
तू भूल जा उसको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
विश्व पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल)
विश्व पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल)
डॉ.सीमा अग्रवाल
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अतीत
अतीत
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
हिन्दी दोहा लाड़ली
हिन्दी दोहा लाड़ली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कवि एवं वासंतिक ऋतु छवि / मुसाफ़िर बैठा
कवि एवं वासंतिक ऋतु छवि / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
माना सांसों के लिए,
माना सांसों के लिए,
शेखर सिंह
आज का महाभारत 2
आज का महाभारत 2
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कभी बारिश में जो भींगी बहुत थी
कभी बारिश में जो भींगी बहुत थी
Shweta Soni
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
■ विनम्र अपील...
■ विनम्र अपील...
*Author प्रणय प्रभात*
दुश्मन से भी यारी रख। मन में बातें प्यारी रख। दुख न पहुंचे लहजे से। इतनी जिम्मेदारी रख। ।
दुश्मन से भी यारी रख। मन में बातें प्यारी रख। दुख न पहुंचे लहजे से। इतनी जिम्मेदारी रख। ।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अजीब शख्स था...
अजीब शख्स था...
हिमांशु Kulshrestha
सृजन
सृजन
Rekha Drolia
आस
आस
Shyam Sundar Subramanian
विश्व कप-2023 का सबसे लंबा छक्का किसने मारा?
विश्व कप-2023 का सबसे लंबा छक्का किसने मारा?
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
Loading...