Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2023 · 1 min read

याद आया मुझको बचपन मेरा….

– बारिश…

बारिश की बूंदे ने जब मुझको छेड़ा,
याद आया मुझको बचपन मेरा,
इधर उधर यूं भागा करते,
छुप छुप कर हम भीगा करते,
सुंदर सलोना सपना मेरा।

याद आया मुझको बचपन मेरा….

भीग भागकर जब घर आते हैं,
डरकर मम्मी से छिप जाते हैं,
धीरे-धीरे कदम बढ़ाते,
गलती से भीगे मम्मी ,
यह कहकर मुस्काते,
बचपन की वह बारिश,
सुंदर सपना सलोना मेरा।

याद आया मुझको बचपन मेरा…..

याद बड़ी मुझको आती ,
अब भी मुझको गुदगुदा जाती ,
मम्मी से कागज की नाव बनवाना,
फिर उसको बारिश में चलाना,
हमें देख मम्मी का मुस्कुराना,
याद आता है वह बचपन की बारिश का आना।

याद आया मुझको बचपन मेरा…..

बारिश के बंद होते इंद्रधनुष का निकलना ,
ऐसे चहक कर खुश होना,
मानो नई दुनिया का हो मिलना,
एक-एक कर सारे रंगों को गिनना,
वह बचपन की बारिश में धीरे-धीरे बूंदो का गिरना।

सुंदर सलोना सपना मेरा
याद आया मुझको बचपन मेरा…..

हरमिंदर कौर
अमरोहा ( यूपी )
मौलिक रचना

2 Likes · 197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विक्रमादित्य के बत्तीस गुण
विक्रमादित्य के बत्तीस गुण
Vijay Nagar
समय एक जैसा किसी का और कभी भी नहीं होता।
समय एक जैसा किसी का और कभी भी नहीं होता।
पूर्वार्थ
शब्द
शब्द
लक्ष्मी सिंह
बढ़ रही नारी निरंतर
बढ़ रही नारी निरंतर
surenderpal vaidya
नसीब तो ऐसा है मेरा
नसीब तो ऐसा है मेरा
gurudeenverma198
**कब से बंद पड़ी है गली दुकान की**
**कब से बंद पड़ी है गली दुकान की**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
“जो पानी छान कर पीते हैं,
“जो पानी छान कर पीते हैं,
शेखर सिंह
एक दोहा...
एक दोहा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
फूल की प्रेरणा खुशबू और मुस्कुराना हैं।
फूल की प्रेरणा खुशबू और मुस्कुराना हैं।
Neeraj Agarwal
अपनी आवाज में गीत गाना तेरा
अपनी आवाज में गीत गाना तेरा
Shweta Soni
"क्षमायाचना"
Dr. Kishan tandon kranti
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
संसाधन का दोहन
संसाधन का दोहन
Buddha Prakash
बादल
बादल
Shankar suman
तेरे भीतर ही छिपा,
तेरे भीतर ही छिपा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🙅भविष्यवाणी🙅
🙅भविष्यवाणी🙅
*प्रणय प्रभात*
!! पर्यावरण !!
!! पर्यावरण !!
Chunnu Lal Gupta
"आत्मकथा"
Rajesh vyas
मेरी फितरत
मेरी फितरत
Ram Krishan Rastogi
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
Keshav kishor Kumar
लहज़ा तेरी नफरत का मुझे सता रहा है,
लहज़ा तेरी नफरत का मुझे सता रहा है,
Ravi Betulwala
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
सत्य कुमार प्रेमी
2743. *पूर्णिका*
2743. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं
अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेरा गांव
मेरा गांव
अनिल "आदर्श"
शब्दों से बनती है शायरी
शब्दों से बनती है शायरी
Pankaj Sen
*पर्यावरण दिवस * *
*पर्यावरण दिवस * *
Dr Mukesh 'Aseemit'
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
Mukesh Kumar Sonkar
डॉ. अम्बेडकर ने ऐसे लड़ा प्रथम चुनाव
डॉ. अम्बेडकर ने ऐसे लड़ा प्रथम चुनाव
कवि रमेशराज
झकझोरती दरिंदगी
झकझोरती दरिंदगी
Dr. Harvinder Singh Bakshi
Loading...