Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2024 · 1 min read

यादों की एक नई सहर. . . . .

यादों की इक नई सहर …..

न, न
अब मैं तुम्हारी बातों में न आऊँगी
तुम्हारी जिद के आगे न झुक पाऊँगी
तुम तो निर्मोही हो
मेरी पीर क्या समझ पाओगे
बस जग के सामने
जुदाई के सारे दर्द कह जाओगे
उसकी बेवफाई का दर्द
जब जब मैं भूलने का प्रयत्न करूंगी
तुम चुपके से
उसे फिर हरा कर जाओगे
मैं ये भी जानती हूँ
कि तुम पर
मेरी अनुनय- विनय का
कोई असर न होगा
तुम हठी हो
मैं कितनी भी
अपनी पलके बंद करूं
तुम किसी कोने से
बूँद बन के
चुपके से मेरे गालों पर
दर्द की इक
पगडंडी बनाते हुए
निशान छोड़ते हुए
मेरी हथेली पर गिर के
हौले से मुस्कुराओगे
तुम तो आंसू हो
कुछ देर में
सूख कर फना हो जाओगे
मगर
मुझे फिर से
यादों की इक नई सहर दे जाओगे ,
यादों की इक नई सहर दे जाओगे…..

सुशील सरना/1-3-24

43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3008.*पूर्णिका*
3008.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ना वह हवा ना पानी है अब
ना वह हवा ना पानी है अब
VINOD CHAUHAN
दान
दान
Mamta Rani
क्यों ना बेफिक्र होकर सोया जाएं.!!
क्यों ना बेफिक्र होकर सोया जाएं.!!
शेखर सिंह
*वोट हमें बनवाना है।*
*वोट हमें बनवाना है।*
Dushyant Kumar
सत्य की खोज में।
सत्य की खोज में।
Taj Mohammad
The destination
The destination
Bidyadhar Mantry
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Sakshi Tripathi
*जाता दिखता इंडिया, आता भारतवर्ष (कुंडलिया)*
*जाता दिखता इंडिया, आता भारतवर्ष (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शक्तिशाली
शक्तिशाली
Raju Gajbhiye
"जलेबी"
Dr. Kishan tandon kranti
बे-असर
बे-असर
Sameer Kaul Sagar
भगवत गीता जयंती
भगवत गीता जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खोटे सिक्कों के जोर से
खोटे सिक्कों के जोर से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
यूँ ही नही लुभाता,
यूँ ही नही लुभाता,
हिमांशु Kulshrestha
अधि वर्ष
अधि वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
Kishore Nigam
सुनी चेतना की नहीं,
सुनी चेतना की नहीं,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
Namrata Sona
अगर आपको सरकार के कार्य दिखाई नहीं दे रहे हैं तो हमसे सम्पर्
अगर आपको सरकार के कार्य दिखाई नहीं दे रहे हैं तो हमसे सम्पर्
Anand Kumar
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
gurudeenverma198
अपनी पहचान
अपनी पहचान
Dr fauzia Naseem shad
राह नीर की छोड़
राह नीर की छोड़
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
- अब नहीं!!
- अब नहीं!!
Seema gupta,Alwar
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
कवि दीपक बवेजा
राह हमारे विद्यालय की
राह हमारे विद्यालय की
bhandari lokesh
बिल्ले राम
बिल्ले राम
Kanchan Khanna
जिंदगी
जिंदगी
Sangeeta Beniwal
Loading...