Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2023 · 1 min read

यह रंगीन मतलबी दुनियां

यह रंगीन मतलबी दुनियां

ये रंगीन मतलबी दुनियां,
चमकीली अँधेरे में झलकती।
कितने हसीन रंगों का बनी है,
मगर मतलबों से संप्रेम रहती।

हर एक चेहरा छूपा कहानी,
पुरानी या नई, सबकी कहानी।
पर सही और गलत के रंग बिखरे,
जीवन के पन्नों पर लिखी कहानी।

भीड़ जिन्हें हंसने को लालचाती,
वो हीरासे मुस्कराती रहती।
मतलब की लालची दुनियां में,
हकीकत की अवाज कहां रहती।

हर कोई भाग रहा है उपरों की और,
सपनों की आशाएं संपालता।
पर मतलब की पीड़ा से जीने वाले,
हकीकत को कभी न समझ पालता।

बलवादी की दुनियां में रहती,
मतलब के चैनल पर बस रहती।
हस्ती की कीमत का ध्यान होता नहीं,
केवल पनपने का ख्वाब रहती।

ये रंगीन मतलबी दुनियां,
छलावे के सिंदूर में सजती।
पर सच्चाई के पत्ते बदले नहीं,
इस मतलब की बनी रहती।

इस रंगीन मतलबी दुनियां में,
हकीकत को तू खोज लेना।
अपने कारणों से आगे बढ़े,
मायाजालों का तू सोच छोड़ देना।
कार्तिक नितिन शर्मा

186 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई ख़्वाब है
कोई ख़्वाब है
Dr fauzia Naseem shad
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
कवि रमेशराज
प्यार का नाम मेरे दिल से मिटाया तूने।
प्यार का नाम मेरे दिल से मिटाया तूने।
Phool gufran
चुपचाप सा परीक्षा केंद्र
चुपचाप सा परीक्षा केंद्र"
Dr Meenu Poonia
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दिल की पुकार है _
दिल की पुकार है _
Rajesh vyas
"सावित्री बाई फुले"
Dr. Kishan tandon kranti
"इश्क़ वर्दी से"
Lohit Tamta
मैं तो महज वक्त हूँ
मैं तो महज वक्त हूँ
VINOD CHAUHAN
*ऐसा युग भी आएगा*
*ऐसा युग भी आएगा*
Harminder Kaur
आशीर्वाद
आशीर्वाद
Dr Parveen Thakur
तू सीमा बेवफा है
तू सीमा बेवफा है
gurudeenverma198
2955.*पूर्णिका*
2955.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शरीर मोच खाती है कभी आपकी सोच नहीं यदि सोच भी मोच खा गई तो आ
शरीर मोच खाती है कभी आपकी सोच नहीं यदि सोच भी मोच खा गई तो आ
Rj Anand Prajapati
आगाज़
आगाज़
Vivek saswat Shukla
ऐसे जीना जिंदगी,
ऐसे जीना जिंदगी,
sushil sarna
अक्सर लोग सोचते हैं,
अक्सर लोग सोचते हैं,
करन ''केसरा''
सोचा ना था ऐसे भी जमाने होंगे
सोचा ना था ऐसे भी जमाने होंगे
Jitendra Chhonkar
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
सावनी श्यामल घटाएं
सावनी श्यामल घटाएं
surenderpal vaidya
I want to tell you something–
I want to tell you something–
पूर्वार्थ
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
एक नायक भक्त महान 🌿🌿
एक नायक भक्त महान 🌿🌿
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*जय सीता जय राम जय, जय जय पवन कुमार (कुछ दोहे)*
*जय सीता जय राम जय, जय जय पवन कुमार (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
चुप रहना ही खाशियत है इस दौर की
चुप रहना ही खाशियत है इस दौर की
डॉ. दीपक मेवाती
मजे की बात है ....
मजे की बात है ....
Rohit yadav
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
शराब
शराब
RAKESH RAKESH
■ 100% यक़ीन मानिए।
■ 100% यक़ीन मानिए।
*Author प्रणय प्रभात*
Maine jab ijajat di
Maine jab ijajat di
Sakshi Tripathi
Loading...