Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jan 2023 · 1 min read

यह मकर संक्रांति

लाती है ऐसे खुशियाँ, यह मकर संक्रांति।
भरती है ऐसे उल्लास,यह मकर संक्रांति।।
लाती है ऐसे खुशियाँ———————।।

कर्क रेखा से मकर रेखा में, सूर्य आ जाता है।
इसीलिए इसको,मकर संक्रांति कहा जाता है।।
करती है दिन को बड़ा, यह मकर संक्रांति।
भरती है ऐसे उल्लास, यह मकर संक्रांति।।
लाती है ऐसे खुशियाँ———————-।।

खेतों में फसलों की पूजा, होती है इस दिन।
बेटियाँ भी बाबुल के घर, आती है इस दिन।।
दान-पुण्य का है त्यौहार, यह मकर संक्रांति।
भरती है ऐसे उल्लास,यह मकर सक्रांति।।
लाती है ऐसे खुशियाँ———————-।।

इस दिन को पतंगों का,त्यौहार भी तो कहते हैं।
गुल्ली-डंडा- कुश्ती-दौड़ खेल, गांवों में खेलते हैं।।
तिल के लड्डू सी है मीठी, यह मकर संक्रांति।
भरती है ऐसे उल्लास, यह मकर संक्रांति।।
लाती है ऐसे खुशियाँ———————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला-बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
258 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हत्या-अभ्यस्त अपराधी सा मुख मेरा / MUSAFIR BAITHA
हत्या-अभ्यस्त अपराधी सा मुख मेरा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*सरस रामकथा*
*सरस रामकथा*
Ravi Prakash
मां, तेरी कृपा का आकांक्षी।
मां, तेरी कृपा का आकांक्षी।
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
Phool gufran
मुझे याद🤦 आती है
मुझे याद🤦 आती है
डॉ० रोहित कौशिक
मैं फक्र से कहती हू
मैं फक्र से कहती हू
Naushaba Suriya
"जिसे जो आएगा, वो ही करेगा।
*प्रणय प्रभात*
राजनीती
राजनीती
Bodhisatva kastooriya
उसके किरदार की खुशबू की महक ज्यादा है
उसके किरदार की खुशबू की महक ज्यादा है
कवि दीपक बवेजा
बचपन का प्यार
बचपन का प्यार
Vandna Thakur
सत्य की खोज
सत्य की खोज
dks.lhp
आज कल कुछ लोग काम निकलते ही
आज कल कुछ लोग काम निकलते ही
शेखर सिंह
कहां बिखर जाती है
कहां बिखर जाती है
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
आज का दौर
आज का दौर
Shyam Sundar Subramanian
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
shabina. Naaz
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
Amit Pathak
क्रिसमस दिन भावे 🥀🙏
क्रिसमस दिन भावे 🥀🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
Neelam Sharma
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चम-चम चमके चाँदनी
चम-चम चमके चाँदनी
Vedha Singh
* मुझे क्या ? *
* मुझे क्या ? *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं खुशियों की शम्मा जलाने चला हूॅं।
मैं खुशियों की शम्मा जलाने चला हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
फलसफ़ा
फलसफ़ा
Atul "Krishn"
3241.*पूर्णिका*
3241.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
Dr. Narendra Valmiki
पत्तल
पत्तल
Rituraj shivem verma
जाति  धर्म  के नाम  पर, चुनने होगे  शूल ।
जाति धर्म के नाम पर, चुनने होगे शूल ।
sushil sarna
Loading...