Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 1 min read

यहीं यमलोक दिखा दे….हास्य-कुण्डलिया

सोती पत्नी के निकट, बैठी नागिन झूम.
बोला पति डस ले वहीं, मत क़दमों को चूम.
मत क़दमों को चूम, विष भरे दांत चुभा दे,
बहुत कर चुकी तंग, यहीं यमलोक दिखा दे.
बस कर नामाकूल, ठहर, मैं तुझको धोती.
कर लूं जहर रिचार्ज, अभी गुरुवाइन सोती..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
✴️⛅बादल में भी देखा तुम्हें आज⛅✴️
✴️⛅बादल में भी देखा तुम्हें आज⛅✴️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Jaruri to nhi , jo riste dil me ho ,
Jaruri to nhi , jo riste dil me ho ,
Sakshi Tripathi
हर कभी ना माने
हर कभी ना माने
Dinesh Gupta
■ अक्लमंदों के लिए।
■ अक्लमंदों के लिए।
*Author प्रणय प्रभात*
मुक्तक - जिन्दगी
मुक्तक - जिन्दगी
sushil sarna
बहुत सहा है दर्द हमने।
बहुत सहा है दर्द हमने।
Taj Mohammad
मेरा होना ही हो ख़ता जैसे
मेरा होना ही हो ख़ता जैसे
Dr fauzia Naseem shad
*अधूरापन  (कुंडलिया)*
*अधूरापन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
2872.*पूर्णिका*
2872.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आँखें शिकायत करती हैं गमों मे इस्तेमाल हमारा ही क्यों करते ह
आँखें शिकायत करती हैं गमों मे इस्तेमाल हमारा ही क्यों करते ह
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
*बस एक बार*
*बस एक बार*
Shashi kala vyas
न्याय के लिए
न्याय के लिए
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
विद्रोही प्रेम
विद्रोही प्रेम
Rashmi Ranjan
इश्क़ का असर
इश्क़ का असर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"बताओ"
Dr. Kishan tandon kranti
हाँ मैं किन्नर हूँ…
हाँ मैं किन्नर हूँ…
Anand Kumar
दोहा बिषय- महान
दोहा बिषय- महान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
किवाड़ खा गई
किवाड़ खा गई
AJAY AMITABH SUMAN
ग़ज़ल
ग़ज़ल
rekha mohan
मेरे चेहरे पर मुफलिसी का इस्तेहार लगा है,
मेरे चेहरे पर मुफलिसी का इस्तेहार लगा है,
Lokesh Singh
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
★साथ तेरा★
★साथ तेरा★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
Bhupendra Rawat
कि सब ठीक हो जायेगा
कि सब ठीक हो जायेगा
Vikram soni
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पागल मन कहां सुख पाय ?
पागल मन कहां सुख पाय ?
goutam shaw
ज़िदगी के फ़लसफ़े
ज़िदगी के फ़लसफ़े
Shyam Sundar Subramanian
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
manjula chauhan
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
Ashok Sharma
Loading...