Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 1 min read

यहाँ प्रयाग न गंगासागर,

यहाँ प्रयाग न गंगासागर,
यहाँ न रामेश्वर, काशी।
कहाँ यही है तीर्थ हमारा,
चितोड़ चले बन संन्यासी।

केसरिया बाना को पहने,
मस्तक पर तिलक लगाये।
एकलिंग के गूंजे जय कारे ,
दिलेर वीर-गति लेने निकले

अनिल चौबिसा चित्तौड़गढ़
9829246588

207 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आपात स्थिति में रक्तदान के लिए आमंत्रण देने हेतु सोशल मीडिया
आपात स्थिति में रक्तदान के लिए आमंत्रण देने हेतु सोशल मीडिया
*Author प्रणय प्रभात*
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
ओनिका सेतिया 'अनु '
फिर कभी तुमको बुलाऊं
फिर कभी तुमको बुलाऊं
Shivkumar Bilagrami
परिंदा हूं आसमां का
परिंदा हूं आसमां का
Praveen Sain
*क्षीर सागर (बाल कविता)*
*क्षीर सागर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
तुम्हें अपना कहने की तमन्ना थी दिल में...
तुम्हें अपना कहने की तमन्ना थी दिल में...
Vishal babu (vishu)
"ज्ञ " से ज्ञानी हम बन जाते हैं
Ghanshyam Poddar
* सत्य पथ पर *
* सत्य पथ पर *
surenderpal vaidya
शंकर हुआ हूँ (ग़ज़ल)
शंकर हुआ हूँ (ग़ज़ल)
Rahul Smit
शहर कितना भी तरक्की कर ले लेकिन संस्कृति व सभ्यता के मामले म
शहर कितना भी तरक्की कर ले लेकिन संस्कृति व सभ्यता के मामले म
Anand Kumar
"A Dance of Desires"
Manisha Manjari
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
कवि रमेशराज
*जुदाई न मिले किसी को*
*जुदाई न मिले किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
The steps of our life is like a cup of tea ,
The steps of our life is like a cup of tea ,
Sakshi Tripathi
तेरा एहसास
तेरा एहसास
Dr fauzia Naseem shad
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दगा बाज़ आसूं
दगा बाज़ आसूं
Surya Barman
मैं यूं ही नहीं इतराता हूं।
मैं यूं ही नहीं इतराता हूं।
नेताम आर सी
जब ऐसा लगे कि
जब ऐसा लगे कि
Nanki Patre
अंतिम इच्छा
अंतिम इच्छा
Shekhar Chandra Mitra
आजादी..
आजादी..
Harminder Kaur
3186.*पूर्णिका*
3186.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मानवता है धर्म सत,रखें सभी हम ध्यान।
मानवता है धर्म सत,रखें सभी हम ध्यान।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"एक नज़्म तुम्हारे नाम"
Lohit Tamta
जिंदगी तेरे नाम हो जाए
जिंदगी तेरे नाम हो जाए
Surinder blackpen
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
Sanjay ' शून्य'
एक तो धर्म की ओढनी
एक तो धर्म की ओढनी
Mahender Singh
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
इश्क़
इश्क़
लक्ष्मी सिंह
उसको ख़ुद से ही ये गिला होगा ।
उसको ख़ुद से ही ये गिला होगा ।
Neelam Sharma
Loading...