Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2023 · 1 min read

यदि कोई अपनी इच्छाओं और आवश्यकताओं से मुक्त हो तो वह मोक्ष औ

यदि कोई अपनी इच्छाओं और आवश्यकताओं से मुक्त हो तो वह मोक्ष और शांति प्राप्त कर सकता है….✍️💯🧑‍🎓

230 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल होता .ना दिल रोता
दिल होता .ना दिल रोता
Vishal Prajapati
23/44.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/44.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शालीनता की गणित
शालीनता की गणित
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
छल
छल
Aman Kumar Holy
नेक मनाओ
नेक मनाओ
Ghanshyam Poddar
प्रेम
प्रेम
Mamta Rani
क्या मेरा
क्या मेरा
Dr fauzia Naseem shad
भारत भूमि में पग पग घूमे ।
भारत भूमि में पग पग घूमे ।
Buddha Prakash
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
VINOD CHAUHAN
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
नाथ सोनांचली
बालि हनुमान मलयुद्ध
बालि हनुमान मलयुद्ध
Anil chobisa
दिन ढले तो ढले
दिन ढले तो ढले
Dr.Pratibha Prakash
आजादी की चाहत
आजादी की चाहत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हुई नैन की नैन से,
हुई नैन की नैन से,
sushil sarna
■ अपनी-अपनी मौज।
■ अपनी-अपनी मौज।
*Author प्रणय प्रभात*
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
Phool gufran
प्यार ~ व्यापार
प्यार ~ व्यापार
The_dk_poetry
जिस्मानी इश्क
जिस्मानी इश्क
Sanjay ' शून्य'
*ओ मच्छर ओ मक्खी कब, छोड़ोगे जान हमारी【 हास्य गीत】*
*ओ मच्छर ओ मक्खी कब, छोड़ोगे जान हमारी【 हास्य गीत】*
Ravi Prakash
उफ़ ये अदा
उफ़ ये अदा
Surinder blackpen
उसके कहने पे दावा लिया करता था
उसके कहने पे दावा लिया करता था
Keshav kishor Kumar
फितरत
फितरत
पूनम झा 'प्रथमा'
"इतिहास"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं पुरखों के घर आया था
मैं पुरखों के घर आया था
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अधूरे ख्वाब
अधूरे ख्वाब
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
बुंदेली दोहा-पखा (दाढ़ी के लंबे बाल)
बुंदेली दोहा-पखा (दाढ़ी के लंबे बाल)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सृष्टि
सृष्टि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जो अच्छा लगे उसे अच्छा कहा जाये
जो अच्छा लगे उसे अच्छा कहा जाये
ruby kumari
ଅହଙ୍କାର
ଅହଙ୍କାର
Bidyadhar Mantry
Loading...