Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Mar 2023 · 1 min read

*मौसम बदल गया*

मौसम बदल गया
शीतल मंद पवन बहे ,पतझड़ का मौसम फिजाएं बदल गई।
वो बसंत ऋतु की बहार ,पीली सरसों खिल गई।
इंद्रधनुषी सात रंगों में ,सुरभित मनभावन भा गई।
खिली बासंती बयार ,चटक रंग धरा पर बिखरा गई।
पीले वस्त्र पहने टेशू पलाश फूलों को देख मन हरषा गई।
बसंत ऋतु की सतरंगी छटा ,कुदरत भी देख मुस्करा गई।
रूठी चाँदनी छिटक कर ,प्रकृति के स्वरूप को देख निखर गई।
सर्दी से गर्मी का मौसम ,रुत बदल कर कुछ नई बात समझा गई।
शशिकला व्यास

Language: Hindi
309 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस
ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस
Annu Gurjar
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ज्योति
Don't bask in your success
Don't bask in your success
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मां शारदा की वंदना
मां शारदा की वंदना
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Madhu Shah
लौट आओ ना
लौट आओ ना
VINOD CHAUHAN
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
मानवता का मुखड़ा
मानवता का मुखड़ा
Seema Garg
आप क्या ज़िंदगी को
आप क्या ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
वो कड़वी हक़ीक़त
वो कड़वी हक़ीक़त
पूर्वार्थ
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हिन्द की हस्ती को
हिन्द की हस्ती को
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मत जलाओ तुम दुबारा रक्त की चिंगारिया।
मत जलाओ तुम दुबारा रक्त की चिंगारिया।
Sanjay ' शून्य'
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रमेशराज की तेवरी
रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
* आस्था *
* आस्था *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*अवध  में  प्रभु  राम  पधारें है*
*अवध में प्रभु राम पधारें है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Only attraction
Only attraction
Bidyadhar Mantry
*जन्मभूमि है रामलला की, त्रेता का नव काल है (मुक्तक)*
*जन्मभूमि है रामलला की, त्रेता का नव काल है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
Dr Tabassum Jahan
रास्ते और राह ही तो होते है
रास्ते और राह ही तो होते है
Neeraj Agarwal
दिल खोल कर रखो
दिल खोल कर रखो
Dr. Rajeev Jain
जरुरी नहीं कि
जरुरी नहीं कि
Sangeeta Beniwal
पहला अहसास
पहला अहसास
Falendra Sahu
जब मैं मंदिर गया,
जब मैं मंदिर गया,
नेताम आर सी
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
Atul "Krishn"
3016.*पूर्णिका*
3016.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिश्तों में आपसी मजबूती बनाए रखने के लिए भावना पर ध्यान रहना
रिश्तों में आपसी मजबूती बनाए रखने के लिए भावना पर ध्यान रहना
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
फ़ितरत
फ़ितरत
Kavita Chouhan
"बगैर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...