Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

मौन संवाद

, [ मौन संवाद ]

अंबर ने अवनी से पूछा,कहो तो भू पर आ- जायें !
अवनी के मन में भी यह था,अंबर हृदय समा जायें !!

दोनों ने मिलने की मंशा ,यूँ तो निष्पादित कर दी –
लेकिन प्रश्न बिना उत्तर के,दोनों के मन सकुचाएँ !

आयी रात, रात भर दोनों ;रहे सोचते—– दोनों ही –
जो मेरे मन क्या उस के मन सोचें -सोचें रह जाएँ !

दिन भर तपन झेल कर,अवनि बहुत बे-हाल हुयी-
अंबर सोचे क्यों न रात को,ओस-कणों को बरसाएँ!

गर्म हवाओं की झंझा से,अंबर हाल-बे-हाल हुआ-
अवनि सोचती क्यों न प्रभा से कह नभ नर्म बना पाएँ !

अंबर की कितनी ऊँचाई, विहग नापते नित-प्रति ही-
नित्य धरा पर बना ठिकाना,जीवन सुलभ बना पाएँ!

जो हो,कुदरत के सब अवयव;एक-दूजे का ख्याल रखें-
कितना अच्छा हो मानव भी,ख्याल परस्पर रख पाएँ !

समझने वाले समझ गये यहाँ,अंबर रूप दया का है –
अवनि वह कि जो सब को सब को,आश्रय देकर हर्षाएँ !
——————————————————–
मौलिक चिंतन/ स्वरूप दिनकर, / आगरा
,————- 13 /01/2024 ——————–

75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सदा सन्मार्ग के आखिर में, अनुपम हर्ष आता है 【मुक्तक】*
*सदा सन्मार्ग के आखिर में, अनुपम हर्ष आता है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
मेरी बातों का असर यार हल्का पड़ा उस पर
मेरी बातों का असर यार हल्का पड़ा उस पर
कवि दीपक बवेजा
शुभ दीपावली
शुभ दीपावली
Harsh Malviya
ये  कहानी  अधूरी   ही  रह  जायेगी
ये कहानी अधूरी ही रह जायेगी
Yogini kajol Pathak
ज़ेहन से
ज़ेहन से
हिमांशु Kulshrestha
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
आप इतना
आप इतना
Dr fauzia Naseem shad
दूसरों के अधिकारों
दूसरों के अधिकारों
Dr.Rashmi Mishra
निःशुल्क
निःशुल्क
Dr. Kishan tandon kranti
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जीवन अप्रत्याशित
जीवन अप्रत्याशित
पूर्वार्थ
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
Namrata Sona
"खाली हाथ"
Er. Sanjay Shrivastava
शहर
शहर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Tumhe Pakar Jane Kya Kya Socha Tha
Tumhe Pakar Jane Kya Kya Socha Tha
Kumar lalit
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
surenderpal vaidya
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
जगदीश लववंशी
Memories
Memories
Sampada
उत्कर्षता
उत्कर्षता
अंजनीत निज्जर
जग-मग करते चाँद सितारे ।
जग-मग करते चाँद सितारे ।
Vedha Singh
हाँ, तैयार हूँ मैं
हाँ, तैयार हूँ मैं
gurudeenverma198
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!
Manu Vashistha
मैं अपने अधरों को मौन करूं
मैं अपने अधरों को मौन करूं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बोध
बोध
Dr.Pratibha Prakash
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
ओसमणी साहू 'ओश'
दुआ
दुआ
Shekhar Chandra Mitra
एकांत मन
एकांत मन
TARAN VERMA
पर्यावरण
पर्यावरण
Madhavi Srivastava
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
Vishal babu (vishu)
2877.*पूर्णिका*
2877.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...