Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2023 · 2 min read

— मौत का मंजर —

युवा पीढ़ी को नसीहत देने के लिए आज मैं एक छोटा सा लेख लिख रहा हूँ, कि देखो जीवन बहुत अनमोल है, एक बार ही मिला है, बाकी सौभाग्य हुआ तो दोबारा भगवान् दे ,अन्यथा न दे !

मैं यह कहना चाहता हूँ, कि सड़क पर जब आप चलते है, तो अपना ख्याल कैसे रखते हो, वो तो आप जानो, पर दूसरों का ख्याल रखते हुए अपने वाहन को चलाओ , अन्यथा हादसा किसी भी वक्त घटित हो सकता है, आज आये दिन सड़क पर अनगिनत हादसे हो रहे हैं, और बहुत ही कम चांस होते हैं, कि इंसान बच जाए, एक दूजे से आगे निकलने की होड़ दुर्घटना का कारण बन जाता है, कान में लीड, हाथ में मोबाइल, बिना हेलमेट , बिना सीट बेल्ट , लापरवाही इतनी , कि टक्कर लगने के बाद खुद अपनी गाडी सँभालने का समय नहीं मिलता, तो क्यूँ ऐसे काम करते हो, जिस से जीवन खतरे में पड़े, मरने वालों की लाश तक नहीं मिलती, एक गठरी में मृत शरीर को पोस्ट मॉर्टम के लिए भेज दिया जाता है, बस रह जाता है रोना पीटना और अफ़सोस करना !

बड़े घर के लोग बड़ी बातें , बुलेट , ऊँचे कीमत की कारें , जीपें , अपने स्टेटस को किसी के आगे काम नहीं होने देना, एक पल लगता है जान निकलने में , हेलमेट को बाइक के साथ बाँध कर चलते है, पुलिस न देख ले चालान न कर दे, फट से निकाल के फिर पहन लेते है, जब चौपला पार हुआ, फिर उत्तार देते हैं, आखिर किस की आँखों में धुल झोंक रहे हो, पुलिस तो बस चालान करेगी, टक्कर होने के बाद कौन बचाएगा, अस्पताल के डाक्टर भी हाथ खड़े कर देना, माँ बाप का पैसा तक खत्म हो जाएगा !

आज युवा पीढ़ी को बहुत सँभलने की आश्यकता है, राष्ट्र के निर्माण में युवा पीढ़ी का बहुत बड़ा योगदान होता है, अगर युवा पीढ़ी ही निकम्मी निकल जाए , तो देश बर्बाद होने लगता है, घर बर्बाद होने लगते हैं, माँ बाप तक किसी दूसरे के मोहताज हो जाते है, उनके और युवा वर्ग के बने सपने पल भर में शून्य हो जाते हैं, इस लिए इस लेख से बस इतना सबक लो, अपनी गति को धीमा रखो, आगे निकलने की जल्दबाजी कभी मत करो, यातायात के नियम जो भी हैं, उनका पालन पूरी निष्ठां के साथ करो, तभी आप और दूसरे अपने गंतव्य तक सुरक्षित पहुँच पाएंगे , अन्यथा मौत हमेशां इंतजार करती है, आपकी गलती हो, और उस गलती का खामियाजा सिर्फ और सिर्फ – मौत ही होगी, यह मंजर बड़ा दुखदाई होता है, न जाने मरने वाले के साथ और कितने लोग जीवन का साथ छोड़ दें !

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
Tag: लेख
474 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
पंछी
पंछी
Saraswati Bajpai
हर हालात में अपने जुबाँ पर, रहता वन्देमातरम् .... !
हर हालात में अपने जुबाँ पर, रहता वन्देमातरम् .... !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
हम कोई भी कार्य करें
हम कोई भी कार्य करें
Swami Ganganiya
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
शेखर सिंह
☝विशेष दिन : अनूठा_उपाय....
☝विशेष दिन : अनूठा_उपाय....
*प्रणय प्रभात*
प्रकृति
प्रकृति
Mukesh Kumar Sonkar
धर्मांध
धर्मांध
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्यार क्या होता, यह हमें भी बहुत अच्छे से पता है..!
प्यार क्या होता, यह हमें भी बहुत अच्छे से पता है..!
SPK Sachin Lodhi
श्याम दिलबर बना जब से
श्याम दिलबर बना जब से
Khaimsingh Saini
चाँद बदन पर ग़म-ए-जुदाई  लिखता है
चाँद बदन पर ग़म-ए-जुदाई लिखता है
Shweta Soni
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
Sonam Pundir
उसकी सूरत में उलझे हैं नैना मेरे।
उसकी सूरत में उलझे हैं नैना मेरे।
Madhuri mahakash
आंखों की नदी
आंखों की नदी
Madhu Shah
तुम प्यार मोहब्बत समझती नहीं हो,
तुम प्यार मोहब्बत समझती नहीं हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैं हर महीने भीग जाती हूँ
मैं हर महीने भीग जाती हूँ
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
Paras Nath Jha
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"आज की कविता"
Dr. Kishan tandon kranti
आज़माइश कोई
आज़माइश कोई
Dr fauzia Naseem shad
लोट के ना आएंगे हम
लोट के ना आएंगे हम
VINOD CHAUHAN
बदलियां
बदलियां
surenderpal vaidya
*जन्मदिवस पर केक ( बाल कविता )*
*जन्मदिवस पर केक ( बाल कविता )*
Ravi Prakash
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
Rj Anand Prajapati
2909.*पूर्णिका*
2909.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अलसाई आँखे
अलसाई आँखे
A🇨🇭maanush
रोटी का कद्र वहां है जहां भूख बहुत ज्यादा है ll
रोटी का कद्र वहां है जहां भूख बहुत ज्यादा है ll
Ranjeet kumar patre
हां मैं उत्तर प्रदेश हूं,
हां मैं उत्तर प्रदेश हूं,
Anand Kumar
बीतते वक्त के संग-संग,दूर होते रिश्तों की कहानी,
बीतते वक्त के संग-संग,दूर होते रिश्तों की कहानी,
Rituraj shivem verma
अच्छे   बल्लेबाज  हैं,  गेंदबाज   दमदार।
अच्छे बल्लेबाज हैं, गेंदबाज दमदार।
गुमनाम 'बाबा'
"क्रोधित चिड़िमार"(संस्मरण -फौजी दर्शन ) {AMC CENTRE LUCKNOW}
DrLakshman Jha Parimal
Loading...