Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2023 · 1 min read

मै भी सुना सकता हूँ

सुनना चाहते हो तुम मै वह भी सुना सकता हूँ।
समय की बात नही तो पूरी रात सुना सकता हूँ।
घायल खड़ी भारत माँ की पीड़ा गाने आया हूँ।
मैं कैसे चूड़ी पायल की छम छम सुना सकता हूँ।

दुश्मन की हर बोली का भी उत्तर सुना सकता हूँ।
घायल जवानों के गोली की गूंज सुना सकता हूँ।
मनोरंजन के तुम्हारे मन मे आग लगा ने आया हूँ।
मै कैसे नदी झरनों की खल खल सुना सकता हूँ।

भूख से तड़पते बच्चों की पीड़ा भी सुना सकता हूँ।
इंसानियत के दुश्मनों की पहचान दिखा सकता हूँ।
बारूद बम धमाके बंदूकों की गूंज सुनाने आया हूँ।
सुनना चाहते हो तुम मै वही चीख सुनाने आया हूँ।

लीलाधर चौबिसा (अनिल)
चित्तौड़गढ़ 9829246588

Language: Hindi
94 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कहीं भूल मुझसे न हो जो गई है।
कहीं भूल मुझसे न हो जो गई है।
surenderpal vaidya
जीवन में कभी भी संत रूप में आए व्यक्ति का अनादर मत करें, क्य
जीवन में कभी भी संत रूप में आए व्यक्ति का अनादर मत करें, क्य
Sanjay ' शून्य'
"इंसान हो इंसान"
Dr. Kishan tandon kranti
उदास रात सितारों ने मुझसे पूछ लिया,
उदास रात सितारों ने मुझसे पूछ लिया,
Neelofar Khan
💐💞💐
💐💞💐
शेखर सिंह
नववर्ष का आगाज़
नववर्ष का आगाज़
Vandna Thakur
कभी हक़ किसी पर
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
छल छल छलके आँख से,
छल छल छलके आँख से,
sushil sarna
मोहब्बत
मोहब्बत
Dinesh Kumar Gangwar
हीरा जनम गंवाएगा
हीरा जनम गंवाएगा
Shekhar Chandra Mitra
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
Kuldeep mishra (KD)
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
Shweta Soni
लफ्जों के सिवा।
लफ्जों के सिवा।
Taj Mohammad
*माॅं की चाहत*
*माॅं की चाहत*
Harminder Kaur
विकल्प
विकल्प
Dr.Priya Soni Khare
तू ही बता, करूं मैं क्या
तू ही बता, करूं मैं क्या
Aditya Prakash
जिंदगी और जीवन में अंतर हैं
जिंदगी और जीवन में अंतर हैं
Neeraj Agarwal
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
सत्य कुमार प्रेमी
3391⚘ *पूर्णिका* ⚘
3391⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
*आओ मिलकर नया साल मनाएं*
*आओ मिलकर नया साल मनाएं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था.......
उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था.......
Ashish shukla
■ कामयाबी का नुस्खा...
■ कामयाबी का नुस्खा...
*प्रणय प्रभात*
गणेश चतुर्थी
गणेश चतुर्थी
Surinder blackpen
जिंदगी हर रोज
जिंदगी हर रोज
VINOD CHAUHAN
भगवा रंग में रंगें सभी,
भगवा रंग में रंगें सभी,
Neelam Sharma
बुंदेली दोहा -तर
बुंदेली दोहा -तर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
gurudeenverma198
मुमकिन हो जाएगा
मुमकिन हो जाएगा
Amrita Shukla
हमें प्यार और घृणा, दोनों ही असरदार तरीके से करना आना चाहिए!
हमें प्यार और घृणा, दोनों ही असरदार तरीके से करना आना चाहिए!
Dr MusafiR BaithA
Loading...