Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2016 · 1 min read

मै बेअदब हूँ

मै हूँ बेअदब मगर अदब मे रहता हूँ
बाते करता हूँ, मगर हद मे रहता हूँ
***************************
कपिल कुमार
27/10/2016

Language: Hindi
Tag: शेर
401 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
।। धन तेरस ।।
।। धन तेरस ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
एकांत मन
एकांत मन
TARAN VERMA
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
*अध्याय 10*
*अध्याय 10*
Ravi Prakash
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बस मुझे मेरा प्यार चाहिए
बस मुझे मेरा प्यार चाहिए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
प्राण-प्रतिष्ठा(अयोध्या राम मन्दिर)
प्राण-प्रतिष्ठा(अयोध्या राम मन्दिर)
लक्ष्मी सिंह
चीत्कार रही मानवता,मानव हत्याएं हैं जारी
चीत्कार रही मानवता,मानव हत्याएं हैं जारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
पेपर लीक का सामान्य हो जाना
पेपर लीक का सामान्य हो जाना
आनंद प्रवीण
"जुल्मो-सितम"
Dr. Kishan tandon kranti
मर्यादापुरुषोतम श्री राम
मर्यादापुरुषोतम श्री राम
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कब रात बीत जाती है
कब रात बीत जाती है
Madhuyanka Raj
If We Are Out Of Any Connecting Language.
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
*वो जो दिल के पास है*
*वो जो दिल के पास है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2760. *पूर्णिका*
2760. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अटल सत्य मौत ही है (सत्य की खोज)
अटल सत्य मौत ही है (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
सांसों का थम जाना ही मौत नहीं होता है
सांसों का थम जाना ही मौत नहीं होता है
Ranjeet kumar patre
सूरज
सूरज
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
*** मन बावरा है....! ***
*** मन बावरा है....! ***
VEDANTA PATEL
■
■ "मृतपूजक" वाली छवि से छुटकारा पाएं। जीवित का भी ध्यान रखें
*प्रणय प्रभात*
तलबगार दोस्ती का (कविता)
तलबगार दोस्ती का (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
Ravi Betulwala
कितनी मासूम
कितनी मासूम
हिमांशु Kulshrestha
उफ़  ये लम्हा चाय का ख्यालों में तुम हो सामने
उफ़ ये लम्हा चाय का ख्यालों में तुम हो सामने
Jyoti Shrivastava(ज्योटी श्रीवास्तव)
संसार एक जाल
संसार एक जाल
Mukesh Kumar Sonkar
दहेज ना लेंगे
दहेज ना लेंगे
भरत कुमार सोलंकी
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
पूर्वार्थ
अनुशासित रहे, खुद पर नियंत्रण रखें ।
अनुशासित रहे, खुद पर नियंत्रण रखें ।
Shubham Pandey (S P)
Loading...