Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2024 · 1 min read

मै जो कुछ हु वही कुछ हु।

मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
जो जाहिर है वो बातिल है।
बना लिया रिश्ता तो निभा देता हु
जो बनाया सच्ची इल्म से निभा देता हु।
किसी जूठी अना से दिल को बहलाना नही आता।
तालुक तोड़ता हु मुकम्मल तोड़ देता हु
,जिसे में छोड़ देता हु उसे में छोड़ देता हु।
यकीन रखता नही में किसी कच्चे ताल्लुक पर
,जो धागा टूटने वाला हो उसे में तोड़ देता हु।

188 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2534.पूर्णिका
2534.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आज इंसान के चेहरे पर चेहरे,
आज इंसान के चेहरे पर चेहरे,
Neeraj Agarwal
बसंती बहार
बसंती बहार
इंजी. संजय श्रीवास्तव
One day you will realized that happiness was never about fin
One day you will realized that happiness was never about fin
पूर्वार्थ
आश्रय
आश्रय
goutam shaw
वक्त की जेबों को टटोलकर,
वक्त की जेबों को टटोलकर,
अनिल कुमार
हास्य व्यंग्य
हास्य व्यंग्य
प्रीतम श्रावस्तवी
फिर वही शाम ए गम,
फिर वही शाम ए गम,
ओनिका सेतिया 'अनु '
पेड़ लगाओ तुम ....
पेड़ लगाओ तुम ....
जगदीश लववंशी
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD CHAUHAN
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
DrLakshman Jha Parimal
आज अंधेरे से दोस्ती कर ली मेंने,
आज अंधेरे से दोस्ती कर ली मेंने,
Sunil Maheshwari
অরাজক সহিংসতা
অরাজক সহিংসতা
Otteri Selvakumar
दो शरारती गुड़िया
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
लहर-लहर दीखे बम लहरी, बम लहरी
लहर-लहर दीखे बम लहरी, बम लहरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आजकल की स्त्रियां
आजकल की स्त्रियां
Abhijeet
चुल्लू भर पानी में
चुल्लू भर पानी में
Satish Srijan
समय की कविता
समय की कविता
Vansh Agarwal
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!
Manu Vashistha
जिंदगी
जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
◆बात बनारसियों◆
◆बात बनारसियों◆
*प्रणय प्रभात*
"घर बनाने के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
Phool gufran
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
Aadarsh Dubey
" दम घुटते तरुवर "
Dr Meenu Poonia
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों (मुक्तक)*
*भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जीवन पथ पर सब का अधिकार
जीवन पथ पर सब का अधिकार
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Loading...