Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2023 · 1 min read

मैं दोस्तों से हाथ मिलाने में रह गया कैसे ।

मैं दोस्तों से हाथ मिलाने में रह गया कैसे ।
मैं ख़ाली हाथ इस ज़माने में रह गया कैसे।
वो इक शख्स जो मिरा दोस्त ज़माने से था
पता नहीं कि अचानक से यूँ बदल गया कैसे
बस इक ख़याल तिरा लफ़्ज़ों में ढल रहा
आँखों में ‘नीलम’ आसमां है उतर रहा जैसे।
नीलम शर्मा ✍️

2 Likes · 417 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शायरी 2
शायरी 2
SURYA PRAKASH SHARMA
मिथ्या इस  संसार में,  अर्थहीन  सम्बंध।
मिथ्या इस संसार में, अर्थहीन सम्बंध।
sushil sarna
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
ज़रूरत
ज़रूरत
सतीश तिवारी 'सरस'
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
gurudeenverma198
मुट्ठी भर आस
मुट्ठी भर आस
Kavita Chouhan
दोस्ती के नाम.....
दोस्ती के नाम.....
Naushaba Suriya
नवरात्रि-गीत /
नवरात्रि-गीत /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ के लिए बेटियां
माँ के लिए बेटियां
लक्ष्मी सिंह
मैं होता डी एम
मैं होता डी एम"
Satish Srijan
!! घड़ी समर की !!
!! घड़ी समर की !!
Chunnu Lal Gupta
Poem on
Poem on "Maa" by Vedaanshii
Vedaanshii Vijayvargi
वन को मत काटो
वन को मत काटो
Buddha Prakash
दिल ये इज़हार कहां करता है
दिल ये इज़हार कहां करता है
Surinder blackpen
चलना था साथ
चलना था साथ
Dr fauzia Naseem shad
चंद ख्वाब मेरी आँखों के, चंद तसव्वुर तेरे हों।
चंद ख्वाब मेरी आँखों के, चंद तसव्वुर तेरे हों।
Shiva Awasthi
काम-क्रोध-मद-मोह को, कब त्यागे इंसान
काम-क्रोध-मद-मोह को, कब त्यागे इंसान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लाल उठो!!
लाल उठो!!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
■ आंसू माने भेदिया।
■ आंसू माने भेदिया।
*Author प्रणय प्रभात*
मर्द की कामयाबी के पीछे माँ के अलावा कोई दूसरी औरत नहीं होती
मर्द की कामयाबी के पीछे माँ के अलावा कोई दूसरी औरत नहीं होती
Sandeep Kumar
सुना है सकपने सच होते हैं-कविता
सुना है सकपने सच होते हैं-कविता
Shyam Pandey
प्यारा भारत देश हमारा
प्यारा भारत देश हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
The_dk_poetry
हाल मियां।
हाल मियां।
Acharya Rama Nand Mandal
कहानी ( एक प्यार ऐसा भी )
कहानी ( एक प्यार ऐसा भी )
श्याम सिंह बिष्ट
The steps of our life is like a cup of tea ,
The steps of our life is like a cup of tea ,
Sakshi Tripathi
जीवन और जिंदगी में लकड़ियां ही
जीवन और जिंदगी में लकड़ियां ही
Neeraj Agarwal
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
Yogendra Chaturwedi
मन काशी मन द्वारिका,मन मथुरा मन कुंभ।
मन काशी मन द्वारिका,मन मथुरा मन कुंभ।
विमला महरिया मौज
Loading...