Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता

मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
तुम जितना समझते हो मैं उतना बेकार नहीं हो सकता।

30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2446.पूर्णिका
2446.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
gurudeenverma198
🌷🌷  *
🌷🌷 *"स्कंदमाता"*🌷🌷
Shashi kala vyas
मन अपने बसाओ तो
मन अपने बसाओ तो
surenderpal vaidya
"मित्रों के पसंदों को अनदेखी ना करें "
DrLakshman Jha Parimal
🙅बड़ा सच🙅
🙅बड़ा सच🙅
*प्रणय प्रभात*
मेरी जीत की खबर से ऐसे बिलक रहे हैं ।
मेरी जीत की खबर से ऐसे बिलक रहे हैं ।
Phool gufran
मिला कुछ भी नहीं खोया बहुत है
मिला कुछ भी नहीं खोया बहुत है
अरशद रसूल बदायूंनी
* रामचरितमानस का पाठ*
* रामचरितमानस का पाठ*
Ravi Prakash
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
Radhakishan R. Mundhra
सरस्वती वंदना-2
सरस्वती वंदना-2
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*माटी कहे कुम्हार से*
*माटी कहे कुम्हार से*
Harminder Kaur
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
Neelam Sharma
सिंह सोया हो या जागा हो,
सिंह सोया हो या जागा हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
भरी महफिल
भरी महफिल
Vandna thakur
पुनीत /लीला (गोपी) / गुपाल छंद (सउदाहरण)
पुनीत /लीला (गोपी) / गुपाल छंद (सउदाहरण)
Subhash Singhai
कई बात अभी बाकी है
कई बात अभी बाकी है
Aman Sinha
कहने को तो बहुत लोग होते है
कहने को तो बहुत लोग होते है
रुचि शर्मा
गम हमें होगा बहुत
गम हमें होगा बहुत
VINOD CHAUHAN
शोषण
शोषण
साहिल
माँ
माँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
था मैं तेरी जुल्फों को संवारने की ख्वाबों में
था मैं तेरी जुल्फों को संवारने की ख्वाबों में
Writer_ermkumar
किस बात की चिंता
किस बात की चिंता
Anamika Tiwari 'annpurna '
International Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
Vivek Pandey
गुज़िश्ता साल
गुज़िश्ता साल
Dr.Wasif Quazi
" जुल्म "
Dr. Kishan tandon kranti
रमेशराज के साम्प्रदायिक सद्भाव के गीत
रमेशराज के साम्प्रदायिक सद्भाव के गीत
कवि रमेशराज
याद अमानत बन गयी, लफ्ज़  हुए  लाचार ।
याद अमानत बन गयी, लफ्ज़ हुए लाचार ।
sushil sarna
// ॐ जाप //
// ॐ जाप //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...